स्तन टकराए तो होश खो बैठा


Antarvasna, hindi sex stories: भैया मुझे कहते हैं कि अनिल तुम अपनी भाभी को उनके घर छोड़ दोगे मैंने भैया से कहा भैया लेकिन अभी तो मैं भाभी को नहीं छोड़ सकता तो भैया मुझसे पूछने लगे कि क्यों तुम क्या कहीं जा रहे हो। मैंने भैया से कहा कि हां भैया मैं इस वक्त अपने काम से कहीं जा रहा था यदि आप कहें तो मैं भाभी को दो घंटे बाद छोड़ देता हूं। भैया कहने लगे चलो ठीक है क्योंकि मैं भी अपने काम से जा रहा था इसलिए मैं तुम्हारी भाभी को नहीं छोड़ पाऊंगा तो मैंने सोचा तुम्हें ही कह देता हूं। मैंने भैया से कहा भैया मैं दो घंटे बाद भाभी को छोड़ दूंगा अभी मुझे कुछ जरूरी काम है इसलिए मैं भाभी को नहीं छोड़ सकता भैया मुझसे कहने लगे कि ठीक है तुम मीनाक्षी को छोड़ देना। मैंने भैया से कहा भैया आप चिंता ना करें मैं भाभी को छोड़ दूंगा उसके बाद मैं अपने काम से जा चुका था। मुझे घर आने में करीब दो घंटे लग गए और भाभी भी तैयार थी मैंने मीनाक्षी भाभी को कहा भाभी क्या आप तैयार हो चुकी हैं तो वह मुझे कहने लगे हां मैं तैयार हो चुकी हूं आप बताइए कि कब हमें घर से चलना है।

मैंने उन्हें कहा भाभी मैं आपको छोड ही देता हूं, मैंने भाभी को कहा भाभी आप का सामान कहां है तो भाभी कहने लगी अंदर रूम में रखा हुआ है। मैंने भाभी का बैग उठाया और कार की डिक्की में रख दिया भाभी को मैंने उनके घर छोड़ दिया था और मैं वापस अपने घर लौट आया था। मां और भाभी के बीच में हमेशा ही किसी ना किसी बात को लेकर अनबन होती ही रहती थी इसलिए मां भाभी को पसंद नहीं करती थी भैया को यह सब बात मालूम है। भाभी मॉडल ख्यालातो की हैं और वह एक अच्छे परिवार से हैं इस वजह से भाभी और मां के बीच में ना जाने किस बात को लेकर अनबन रहती है। मैं और मां आपस में बात कर रहे थे तो मां मुझे कहने लगी कि अनिल तुम्हारे लिए भी कई लड़कियों के रिश्ते आने लगे हैं तुम कहो तो मैं शादी की बात कर लेती हूं। मैंने मां से कहा नहीं मां अभी रहने दीजिए मुझे थोड़ा समय चाहिए तो मां कहने लगी लेकिन तुम अभी शादी कर लोगे तो यह तुम्हारे लिए ही अच्छा रहेगा। मैंने मां से कहा हां मां आप बिल्कुल ठीक कह रही है लेकिन मुझे अपने लिए थोड़ा तो समय दीजिए ताकि मैं अपने पैरों पर खड़ा हो सकूं। मैं अभी अपनी जिंदगी की भागदौड़ में लगा हुआ था और अभी तक मुझे समझ नहीं आ पा रहा था कि मुझे करना क्या चाहिए। हालांकि मैं अपनी कंपनी चला जरूर रहा था लेकिन उससे भी मुझे इतना मुनाफा नहीं हो रहा था। मैं और मेरे दोस्त अक्सर शाम को मिला करते थे हम लोग जब भी शाम के वक्त मिलते तो एक दूसरे से अपने काम को लेकर जरूर बात किया करते थे।

जब शाम के वक्त मुझे सोहन मिला तो वह मुझसे कहने लगा कि अनिल तुम आजकल क्या कर रहे हो मैंने सोहन से कहा मैं तो अपने काम में ही बिजी हूं और तुम्हें तो मालूम है ना कि मैं अपना ही काम कर रहा हूं लेकिन मुझे नहीं लगता कि मैं इस काम से बिलकुल भी खुश हूं। सोहन मुझे कहने लगा कि अनिल तुम्हें कुछ और भी काम शुरू कर लेना चाहिए तो मैंने उससे कहा मैं काम तो शुरू करना चाहता हूं लेकिन तुम ही मुझे बताओ कि कैसे मैं काम शुरू करुं मेरे पास पैसे भी तो नहीं है। सोहन मुझे कहने लगा कि तुम अपने भैया से क्यों नहीं बात कर लेते मैंने सोहन से कहा यार अगर मैं भैया से इस बारे में बात करूंगा तो भैया गुस्सा हो जाएंगे और वह ना जाने कितने प्रकार के सवाल मुझसे करने लगेंगे इसलिए मैं उनसे पैसों की मदद तो ले नहीं सकता। मुझे एक दिन सोहन ने गरिमा से मिलवा दिया और जब गरिमा से मै मिला तो गरिमा को मिलकर मुझे अच्छा लगा गरिमा भी अपना कोई स्टार्टअप बिजनेस खोलने की सोच रही थी। मैंने गरिमा से कहा यदि तुम मेरे साथ काम करो तो हम दोनों मिलकर जरूर कुछ अच्छा कर सकते हैं गरिमा को मेरा सुझाव पसंद आया और हम दोनों ने मिलकर एक नई कंपनी शुरू की। वह कंपनी हमने गरिमा के नाम से ही खोली थी और उसके बाद हम लोगों का काम अच्छा चलने लगा गरिमा और मेरे बीच में नजदीकियां बढ़ने लगी थी हम दोनों एक दूसरे से अपनी हर एक बात को साझा किया करते थे। मुझे गरिमा के साथ समय बिताना भी अच्छा लगता था और गरिमा को भी मेरे साथ समय बिताना अच्छा लगता यह सिलसिला ऐसे ही चलता रहा था। मैंने एक दिन गरिमा को अपने दिल की बात कही तो गरिमा मुझे कहने लगी कि अनिल मैं तुम्हें बहुत अच्छा मानती हूँ लेकिन शायद मैंने तुम्हें बताया नहीं कि मेरा एक बॉयफ्रेंड है और उससे मेरा काफी समय से रिलेशन चल रहा है।

मैंने गरिमा से कहा लेकिन तुमने मुझे उसके बारे में कभी भी नहीं बताया गरिमा की इस बात से मैं गुस्सा जरूर था लेकिन फिर भी मैंने गरिमा को कहा कि यदि तुम मुझे पहले यह सब बता देती तो शायद मैं तुम्हें कभी भी अपने दिल की बात नहीं कहता। मेरा दिल पूरी तरीके से टूट चुका था गरिमा अपने बॉयफ्रेंड के बारे में मुझे पहले भी बता सकती थी लेकिन उसने मुझसे यह सब छुपा कर रखा। गरिमा ने जब मुझे अपने बॉयफ्रेंड से मिलवाया तो उससे मिलकर मुझे ज्यादा खुशी तो नहीं हो रही थी लेकिन मुझे मालूम नहीं था कि गरिमा और उसके बीच में कुछ दिनों बाद अनबन शुरू हो जाएगी। गरिमा और उसका बॉयफ्रेंड एक दूसरे से बातें तो किया करते थे लेकिन गरिमा को शायद उसके बारे में ज्यादा पता नहीं था क्योंकि वह अपना चक्कर किसी और लड़की के साथ ही चला रहा था। जब यह बात गरिमा के कानों तक गई तो उसके बाद गरिमा ने उससे अलग होने का फैसला कर लिया था लेकिन उसका बॉयफ्रेंड उसका पीछा कहां छोड़ने वाला था और यह सब इतना आसान भी नहीं होने वाला था उसके लिए मुझे ही गरिमा की मदद करनी पड़ी और अब उसका बॉयफ्रेंड उसकी जिंदगी से दूर जा चुका था।

गरिमा बहुत ही ज्यादा दुख में थी और वह बहुत ज्यादा तकलीफ में भी थी मैंने गरिमा को समझाया और कहा देखो गरिमा चिंता करने की आवश्यकता नहीं है मैं तुम्हारे साथ हूं। मैंने जब गरिमा के कंधे पर हाथ रखा तो गरिमा मुझे कहने लगी मैं बहुत अकेली हो चुकी हूं लेकिन मैंने गरिमा को अपना सहारा दिया और उसके बाद वह मुझसे प्यार करने लगी। हालांकि अब भी वह दुविधा में थी लेकिन फिर भी हम दोनों का रिलेशन अब चल ही रहा था और मुझे इस बात की खुशी भी थी कि गरिमा अब मेरे साथ रिलेशन में हैं और हम दोनों एक दूसरे को ज्यादा से ज्यादा समय देने की कोशिश किया करते। मैं गरिमा को पूरा समय देता था ताकि उसे कभी ऐसा न लगे कि वह अकेली है और गरिमा ने भी मेरा काफी साथ दिया मैंने गरिमा को कहा की अब तुम अकेली नहीं हो मैं तुम्हारे साथ हूं। गरिमा का साथ पाकर मैं बहुत खुश था। गरिमा का साथ मुझे मिल चुका था और मैं इस बात से बहुत ज्यादा खुश था कि कम से कम गरिमा के मेरे जीवन में आने से मेरी खुशी में तो बढ़ोतरी हो गई है। गरिमा और मैं एक दूसरे से खुलकर बात किया करते थे एक दिन जब गरिमा मेरी बाहों में आ गई तो मुझे थोड़ा अजीब सा महसूस हुआ। गरिमा के स्तन जब मुझसे टकराने लगे तो मेरे अंदर की आग बढ़ने लगी थी और मैं अपने आपको बिल्कुल भी रोक ना सका। गरिमा ने मेरे होठों को चूमा और मैंने भी उसके होठों को किस किया तो मुझे बहुत अच्छा लगा काफी देर तक हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूमते रहे जब ऐसा होता रहा तो उसके बाद हम दोनों ही पूरी तरीके से उत्तेजित हो गए। मैंने गरिमा के स्तनों को दबाना शुरू कर दिया था वह भी बहुत खुश थी क्योंकि मैं उसके स्तनों को दबा रहा था काफी देर तक मैंने उसके स्तनों को दबाया और उसके कपडो को मैंने उतार कर अपने लंड को मैंने बाहर निकाला तो वह मेरे लंड को हिलाने लगी थी और उसे भी बहुत अच्छा लगने लगा था।

काफी देर तक उसने मेरे मोटे लंड को हिलाया और उसके बाद जब उसने मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर समाया तो उसे बड़ा अच्छा लगा और मुझे भी अच्छा लग रहा था। काफी देर तक उसने मेर लंड को सकिंग किया और मेरे लंड से पानी बाहर की तरफ को निकलने लगा। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था मैं अपने आपको बिल्कुल भी रोक नहीं पाया लेकिन जब गरिमा ने मेरे लंड को अपनी चूत पर लगाया तो उसकी योनि से पानी बाहर निकल रहा था। वह मुझे कहने लगी कि उससे बिल्कुल भी रहा नहीं जाएगा मैंने गरिमा से कहा मैं भी नहीं रह पा रहा हूं। वह कहने लगी आप अपने लंड को मेरी योनि के अंदर प्रवेश करवा दीजिए मैंने गरिमा से कहा थोड़ा सा सब्र रखो मैंने जब उसकी योनि को चाटने शुरू किया तो मुझे अच्छा लगने लगा और काफी देर तक उसकी चूत को चाटता रहा। काफी देर तक मैं उसकी चूत को ऐसे ही चाटता रहा जब वह पूरी तरीके से उत्तेजित होने लगी तो वह कहने लगी अब मै रह नहीं पाऊंगी।

मैंने भी उसकी योनि के अंदर अपने लंड को घुसा दिया और जैसे ही मेरा मोटा लंड गरिमा के अंदर जाने लगा तो वह चिल्लाने लगी उसके मुंह से बहुत तेज सिसकियां निकल रही थी वह चिल्ला रही थी। मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था और वह काफी देर तक ऐसा ही करती रही मैंने उसे कहा लगता है तुम अब रह नहीं पा रहे हो वह कहने लगी कि इतनी गर्मी को मे झेल नहीं पा रही हूं। मैंने गरिमा से कहा मुझे भी तो अच्छा लग रहा है वह मुझे कहने लगी मैं थोड़ी देर बाद झड जाऊंगी। उसने अपने दोनों पैरों के बीच मे मुझे जकड लिया मैं उसे तेजी से धक्के मार रहा था तो उसकी योनि के अंदर मेरा माल गिरने वाला था। मैंने उसे कहा मैं अब बिल्कुल भी रह नहीं पाऊंगा वह कहने लगी आप अपने माल को मेरी चूत मे गिरा दो। मैंने उसकी योनि के अंदर वीर्य को गिरा दिया वह बहुत ज्यादा खुश हो गई थी और उसके बाद तो यह सिलसिला लगातार चलता रहा अभी तक हम दोनों एक दूसरे के साथ शारीरिक संबंध बनाते रहते हैं और एक दूसरे की जरूरतो हम लोग पूरा कर दिया करते हैं।


error: