शादी से पहले पायल बोली चोदो मुझे


Antarvasna, hindi sex story: काफी समय बाद मैं अपने शहर दिल्ली लौटा था मैं मुंबई में ही अपने मामा जी के साथ काम करने लगा था। मामा जी का फर्नीचर का कारोबार है उसे मैं ही संभालने लगा था क्योंकि मामा जी की कोई भी संतान नहीं है इसलिए उन्होंने मुझे ही अपना वारिश मान लिया है। अब मैं ज्यादातर मुंबई में ही रहता था मेरा परिवार अब भी दिल्ली में ही रहता है और मैं उनके पास बहुत कम आया करता हूं। मैं जब घर आया तो मेरे पापा मम्मी बहुत खुश हो गए और वह कहने लगे कि काफी समय बाद तुम्हें देख कर अच्छा लग रहा है। मैं बहुत समय बाद अपने घर लौट रहा था मेरे बड़े भैया और दीदी दोनों ही खुश थे। वह मुझसे पूछने लगे कि तुम तो मुंबई में ही पूरी तरीके से ढल चुके हो मैंने उन्हें कहा हां भैया मैं मुंबई में पूरी तरीके से ढल चुका हूं। दिल्ली में भी मेरे कुछ पुराने दोस्त हैं जब मैं दिल्ली आया तो मैंने सोचा उनसे मुलाकात कर ही लेता हूं और मैंने उनसे मुलाकात करने के बारे में सोचा लिया।

जब मैं अपने दोस्तों से मिला तो उस वक्त मेरे एक दोस्त ने बताया कि वह जिस लड़की को चाहता था अब उसके साथ वह शादी करने जा रहा है। मैंने कमल से कहा लेकिन अभी तो तुम्हारी उम्र इतनी भी नहीं हुई है कि तुम शादी कर लो लेकिन कमल कहने लगा यार यह दिल का मामला है मुझे लगता है कि मुझे अब रुचि से शादी कर लेनी चाहिए। मैं रुचि से कभी मिला नहीं था लेकिन जब मुझे कमल ने रुचि से मिलवाया तो मुझे बहुत अच्छा लगा क्योंकि मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि मेरी मुलाकात रुचि से हो जाएगी। रुचि से मिलने के बाद मुझे लगा कि मुझे भी अपने लिए कोई लड़की देख लेनी चाहिए मैं लड़कियों से ज्यादातर दूर ही रहा करता था। मैं अपने काम में ही व्यस्त रहता था इसलिए मुझे ज्यादा समय नहीं मिल पाता था लेकिन कमल और रुचि ने मेरी बहुत मदद की और रुचि के माध्यम से मेरी मुलाकात पायल से हुई। पायल के साथ मेरी पहली ही डेट थी और मुझे घबराहट हो रही थी लेकिन पायल से मिलकर मुझे अच्छा लगा और उसके बाद हम दोनों की फोन पर बातें होने लगी। हम दोनों एक दूसरे से मिलने भी लगे थे लेकिन मुझे अब मुंबई लौटना था सब एक महीने के दौरान ही हुआ।

मैंने पायल से कहा की मैं कल मुंबई जा रहा हूं तो पायल कहने लगी कि तुम मुंबई से कब आओगे मैंने पायल को कहा फिलहाल तो अभी मैं कुछ कह नहीं सकता लेकिन जब आऊंगा तो तुम्हें जरूर बता दूंगा। पायल कहने लगी मुझे तुम्हारी बहुत याद आएगी और उसके अगले दिन मैं मुंबई चला गया। मैं जब मुंबई गया तो मैं पायल को फोन करता रहता था और पायल से मेरी फोन पर बात होती रहती थी लेकिन मुझे नहीं मालूम था कि पायल का रिश्ता उसके पिताजी किसी और लड़के से करवा देंगे पायल अपने मां-बाप के आगे कुछ कह ना सकी। पायल के पिताजी ने अपने ही पहचान के लड़के के साथ पायल की सगाई करवा दी पायल की सगाई हो चुकी थी और मुझे इस बारे में पायल ने बताया नहीं था। पायल मुझसे यह सब छुपा रही थी लेकिन जब मैं दिल्ली आया तो मुझे यह बात पता चली तो मुझे यह सुनकर बहुत ही बुरा लगा। पायल मुझे कहने लगी कि रोहित मैं तुम्हें बताना तो चाहती थी लेकिन मेरी हिम्मत ही नहीं हुई कि मैं तुम्हें इस बारे में बता पाऊं। मैंने पायल से कहा देखो पायल तुम्हें कम से कम मुझे यह बात बतानी तो चाहिए थी। पायल कहने लगी यार सब इतने जल्दी में हुआ कि मैं तुम्हें बता भी नहीं पाई मैं अपने पापा के आगे कुछ भी ना कह सकी क्योंकि मुझे बहुत डर लग रहा था यदि मैं पापा को तुम्हारे बारे में बताती तो शायद पापा मुझ पर ही गुस्सा हो जाते इसलिए मैंने उन्हें कुछ भी नहीं बताया। मैंने पायल से कहा देखो पायल तुम मुझसे प्यार करती हो तो तुम्हें एक बार मुझसे तो कहना चाहिए था ना पायल मुझे कहने लगी कि रोहित मैं अब भी तुमसे प्यार करती हूं और मैं तुम्हारे बिना बिल्कुल भी रह नहीं सकती। मैंने पायल से कहा यदि ऐसा था तो तुम मुझे बताती तो सही लेकिन पायल के पास कोई जवाब नहीं था पायल ने मुझे इस बारे में कुछ बताया भी नहीं बताया। मैं बहुत ही ज्यादा गुस्से में था मैंने पायल से कहा मुझे तुमसे बात ही नहीं करनी तो पायल कहने लगी ऐसा मत कहो मैंने पायल से कहा तुम ही मुझे बताओ मेरे पास क्या और कोई रास्ता है।

मैं और पायल एक दूसरे से अलग हो चुके थे हम दोनों एक दूसरे से अब कोई भी संपर्क रखना नहीं चाहते थे लेकिन पायल मुझे फोन करने पर लगी हुई थी लेकिन मैं उसका फोन रिसीव नहीं कर रहा था। पायल को अपनी गलती का एहसास था इसलिए तो वह मुझे फोन कर रही थी और मैंने उसका फोन ही नहीं उठाया लेकिन जब पायल ने मुझे मेरे नंबर पर मैसेज किया तो मुझे लगा कि उससे मुझे बात करनी चाहिए। मैं पायल से बात करने के लिए चला गया हम दोनों ने एक दूसरे से बात तो की लेकिन पहले वाला प्यार कहीं भी नहीं था अब सब कुछ बदल चुका था ना तो पायल मेरी हो सकती थी और ना ही मैं पायल से शादी कर सकता था क्योंकि उसके परिवार वालों ने उसके लिए कोई और ही लड़का देख लिया था इसलिए मेरा पायल की जिंदगी से दूर चले जाना ही ठीक था। मैंने पायल से कहा पायल मैं कुछ दिनों बाद मुंबई लौट जाऊंगा वह मुझे कहने लगी कि मेरी गलती की सजा तुम्हें भुगतनी पड़ रही है। मैंने पायल से कहा देखो पायल इसमें तुम्हारी कितनी गलती है यह तो मुझे नहीं मालूम लेकिन अब सब कुछ बदल चुका है और हम दोनों के रास्ते अब अलग हो चुके हैं।

मैं मुंबई लौट आया था और मुंबई में ही मैं काम करने लगा क्योंकि दिल्ली मेरा जाने का मन ही नहीं हो रहा था और ना ही मैं दिल्ली जाना चाहता था। पायल की अब सगाई हो चुकी थी और वह मुझसे दूर जा चुकी थी उसकी शादी कुछ दिनों बाद ही होने वाली थी। पायल का मुझे फोन आया और वह कहने लगी कि रोहित मुझे तुमसे मिलना है मैंने उसे कहा देखो पायल तुम्हारी सगाई हो चुकी है और कुछ दिनों बाद तुम किसी और की हो जाओगी मैं तुमसे मिलने नहीं आ सकता। पायल चाहती थी कि हम लोग शादी से पहले एक बार तो मिले मैं उसकी बात को मना ना गया और पायल से मिलने के लिए मैं दिल्ली चला गया। जब मैं दिल्ली गया तो पायल से मेरी मुलाकात हुई पायल से मिलना मुझे अच्छा तो लग रहा था लेकिन मेरे चेहरे पर खुशी का भाव नहीं था क्योंकि पायल किसी और की होने वाली थी। पायल ने मुझे गले लगाया और कहने लगी रोहित मैं तुम से हमेशा ही प्यार करती रहूंगी तुम्हारे अलावा मेरे दिल में कभी कोई नहीं रहेगा। मैंने उसे कहा देखो पायल यह सब खोखली बातें हैं शादी के बाद तुम मुझे भूल जाओगे। वह मुझे कहने लगी नहीं मैं तुम्हें कभी नहीं भूलूंगी पायल और मेरे होंठ आपस मे टकराने लगे थे और हम दोनों के होंठो से जो गर्मी बाहर की तरफ निकली उसे हम दोनों ही नहीं बच पाए। मैंने पायल को दीवार के साहरे खडा कर दिया था और जब मैं पायल के स्तनों को दबाता तो मुझे बड़ा ही अच्छा लगता काफी देर तक मैं ऐसा करता रहा लेकिन जब मैंने अपने लंड को बाहर निकाला तो पायल ने उसे हाथ में लेते हुए हिलाना शुरू कर दिया और कहने लगी मुझे तुम्हारे स्तनो को दबाने मे अच्छा लग रहा है। वह जिस प्रकार से मेरे लंड को अपने हाथों से हिला रही थी उससे तो मेरा लंड से पानी बाहर निकलने लगा था लेकिन जब पायल ने लंड को मुंह के अंदर लेकर चूसना शुरू किया तो मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था। पायल ने जिस प्रकार से मेरे लंड को मुंह के अंदर बाहर किया उससे मेरी उत्तेजना और भी ज्यादा बढ़ने लगी थी और पायल भी बहुत खुश नजर आ रही थी।

मैंने पायल से कहा देखो पायल मैं तुम्हारे बिना बिल्कुल भी रह नहीं पा रहा हूं पायल कहने लगी मैं भी तुम्हारे बिना कहां रह पा रही हूं। मैंने जब पायल के कपड़े उतारकर उसके स्तनों का रसपान करना शुरू किया तो वह पूरी तरीके से मचलने लगी थी और उसके अंदर भी अधिक जोश बढ़ने लगा था। मैंने पायल कि चूत पर अपने लंड को लगाया तो उसके मुंह से मादक आवाज निकाल रही थी उसके मुंह से मादक आवाज निकल रही थी। पायल ने मुझे कहा कि मुझे तुम्हारे लंड को अपनी चूत में लेना है तो मैंने भी पायल की चूत के अंदर अपने लंड को धक्का देते हुए घुसाया तो जैसे ही मेरा लंड उसकी चूत के अंदर घुसा तो पायल के मुंह से एक तेज चीख निकलती और वह चिल्लाने लगी। वह मुझे कहने लगी कि मुझे बहुत दर्द हो रहा है पायल को मजा आ रहा था और उसकी चूत से खून भी निकलने लगा था उसकी चूत से खून बाहर की तरफ निकल रहा था। मेरे अंदर बहुत ही ज्यादा उत्तेजना बढ़ चुकी थी और मैं लगातार तेजी से पायल को धक्के मार रहा था।

मुझे पायल की चूत टाइट लग रही थी मैं उसके दोनों पैरों को खोलकर उसे तेजी से चोदता जा रहा था। मैंने पायल को कसकर अपनी बाहों में पकड़ा हुआ था लेकिन जब पायल को मैंने दीवार के सहारे खड़ा किया और उसने वहां रखी मेज को अपने हाथो से पकडा। मैं उसके अंदर अपना लंड डाल चुका था मैं बड़ी तेजी से उसको धक्के मारने लगा उसके मुंह से चीख निकल रही थी और मुझे भी बहुत मजा आ रहा था। काफी देर तक ऐसा करने के बाद मेरा पानी बाहर निकलने लगा तो वह चिल्लाने लगी और मुझे कहने लगी मुझे बहुत दर्द हो रहा है। मैं उसे लगातार तेज गति से धक्के मार रहा था पायल की चूतडे मुझसे टकराने लगी थी उसकी चूतडे जब मुझसे टकराती तो मुझे बहुत ही अच्छा लगता। मैं लगातार तेजी से उसकी चूत के मजे ले रहा था मैने जब अपने वीर्य को पायल की चूत में गिराया तो वह मुझे कहने लगी कि मुझे अच्छा लग रहा है। पायल और मैं एक साथ तो नहीं है लेकिन फिर भी पायल की यादें मेरे दिल में बसी हुई है और हम दोनों ही एक-दूसरे से अब भी प्यार करते हैं।


error: