साहब मै कुछ भी कर लूंगी


Antarvasna, kamukta: मैं अपने ऑफिस से घर लौटा तो मेरी पत्नी मेरे लिए पानी ले आई मैं सोफे पर बैठा हुआ था थोड़ी देर बाद मेरी पत्नी मेरे पास आकर बैठी और कहने लगी कि गौतम आप क्या सोच रहे हैं। मैं अपनी पत्नी की तरफ देखकर उसे कहने लगा कि मेरा ट्रांसफर पुणे हो चुका है और कुछ समय बाद मुझे पुणे जाना होगा। इतने समय तक अपने परिवार के साथ रहने के बाद मुझे पुणे जाना था और मुझे यह बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा था। मेरी पत्नी कहने लगी कि देखिए गौतम कभी ना कभी तो आपका ट्रांसफर होना ही था। मेरा ट्रांसफर तो हो चुका था लेकिन मैं इस बात से बिल्कुल भी खुश नहीं था कि मेरा ट्रांसफर पुणे हो चुका है और अब मुझे पुणे जाना ही था। मैंने अपने एक बचपन के दोस्त को फोन किया और उसे कहा कि मैं पुणे आ रहा हूं वह मुझे कहने लगा कि क्या तुम कुछ काम से यहां आ रहे हो मैंने उसे बताया कि नहीं मेरा ट्रांसफर अब पुणे में हो चुका है।

मैंने उसे कहा कि क्या तुम मेरे लिए कोई घर देख लोगे तो वह मुझे कहने लगा कि गौतम मैं तुम्हें शाम को फोन कर के इस बारे में बताता हूं। शाम के वक्त जब मेरे दोस्त का मुझे फोन आया तो उसने मुझे कहा कि मेरे ऑफिस में कुछ समय पहले एक नए लड़के ने ज्वाइन किया है तो तुम उसके साथ रह सकते हो। मैंने उसे कहा हां मुझे उसके साथ रहने में कोई दिक्कत नहीं है मैं अब उसके साथ रहने के लिए तैयार था और थोड़े ही समय बाद मैं पुणे शिफ्ट हो गया। जब पहली बार मैं उस लड़के से मिला तो उसने मुझे हाथ मिलाते हुए कहा कि मेरा नाम अमित है, अमित मुंबई का रहने वाला है लेकिन वह भी पुणे में जॉब कर रहा है। मैं उसके साथ शिफ्ट हो चुका था मैं अपना थोड़ा बहुत सामान लेकर आ चुका था मैं जब पुणे पहुंचा तो मेरी पत्नी ने मुझे कहा कि क्या आपने उस लड़के के बारे में सब कुछ पता करवा लिया मैंने अपनी पत्नी से कहा देखो रेखा तुम चिंता मत करो। मैं अमित के साथ रहने लगा था शुरुआत के कुछ दिन तो अमित बहुत ही अच्छे से मेरे साथ रह रहा था लेकिन उसके बाद जब मुझे पता चला कि वह नशे का इतना आदी है कि हर रोज अपने दोस्तों के साथ वह पार्टी करके देर रात से घर लौटता जिस वजह से मुझे भी परेशानी होने लगी थी।

एक दिन मैंने अमित से इस बारे में बात की तो मैंने अमित को कहा कि अमित देखो मुझे यह सब बिल्कुल भी पसंद नहीं है और मैं चाहता हूं कि मैं अब अलग रहने के लिए कहीं चला जाऊं। अमित ने मुझे कहा कि मैं अपनी गलतियों को सुधारने की कोशिश करूंगा, अमित जॉब जरूर कर रहा था लेकिन वह हर रोज अपने दोस्तों के साथ पार्टी करता था जिस वजह से मुझे अब परेशानी होने लगी थी। मैंने अमित को कहा कि मैं अब अपने लिए घर देख लेता हूं फिर मैंने अपने दोस्त प्रदीप को इस बारे में कहा तो वह मुझे कहने लगा कि अमित ऑफिस में हमेशा ही अच्छे से काम करता है और मुझे नहीं पता था कि वह शराब भी पीता है। मैंने अपने दोस्त को कहा मुझे उसकी शराब पीने से कोई भी परेशानी नहीं है लेकिन वह देर रात घर लौटता है जिस वजह से मुझे परेशानी होती है तो क्या तुम मेरे लिए कहीं दूसरी जगह घर देख लोगे। प्रदीप मुझे कहने लगा कि ठीक है मैं तुम्हारे लिए कहीं दूसरी जगह घर देख लेता हूं। प्रदीप ने दूसरा घर देखना शुरू कर दिया था कुछ समय बाद ही मुझे एक नया घर मिल चुका था और मैं अब उस घर में शिफ्ट हो चुका था। इसी बीच मुझे अपने घर वापस लौटना पड़ा और अपने ऑफिस से कुछ दिनों की छुट्टी लेनी पड़ी क्योंकि मेरी पत्नी की तबीयत ठीक नहीं थी और मैंने करीब 15 दिन की छुट्टी ले ली थी। मैं जब घर पहुंचा तो मैंने देखा कि मेरी पत्नी के पैर में काफी चोट लगी हुई थी मैंने उससे पूछा कि तुम्हारे पैर में यह चोट कैसे लगी। उसने मुझे बताया कि वह बाथरूम से नहाकर बाहर निकल रही थी कि तभी उसका पैर फिसल पड़ा और वह जमीन पर गिर पड़ी जिससे कि उसके पैर में काफी चोट लग चुकी थी। उसकी देखभाल करने के लिए घर में उस वक्त कोई भी नहीं था मेरी पत्नी की देखभाल अब मुझे ही करनी पड़ रही थी लेकिन मुझे लग रहा था कि शायद 15 दिनों में उसकी चोट ठीक होने वाली नहीं है इसलिए मैंने अपने ऑफिस में फोन किया और कहा कि मुझे कुछ और दिनों की छुट्टी चाहिए थी लेकिन फिलहाल तो मुझे छुट्टी मिल पाना मुश्किल था।

मुझे अब वापस पुणे लौटना पड़ा लेकिन इसी बीच मैंने अपने घर में काम पर एक नौकरानी को रख दिया और वह मेरी पत्नी की देखभाल करने लगी। मैं हर रोज अपनी पत्नी को फोन किया करता तो वह मुझे कहती कि मैं ठीक हूं तुम मेरी चिंता बिल्कुल भी मत करो लेकिन मैं अपने दिमाग से यह ख्याल निकाल ही नहीं पाता था कि मेरी पत्नी के पैर में चोट लगी हुई है जिस वजह से मैं काफी परेशान भी था। अभी तक मुझे छुट्टी नहीं मिल पाई थी करीब दो महीने काम करने के बाद एक दिन मुझे अमित मिला और जब अमित से मेरी मुलाकात हुई तो अमित ने मुझे कहा कि गौतम जी आप कैसे हैं मैंने अमित को कहा मैं तो ठीक हूं। अमित ने मुझे बताया कि मेरी शादी होने वाली है मैंने अमित को कहा चलो यह तो बड़ी खुशी की बात है अमित मुझे कहने लगा कि गौतम जी आपको मेरी वजह से बहुत परेशानी हुई और मैं उसके लिए आपसे माफी मांगना चाहता हूं। मैंने अमित को कहा देखो मुझे परेशानी तो कुछ भी नहीं हुई लेकिन मैं यह चाहता हूं कि तुम अपनी शराब की आदत छोड़ दो।

अमित मुझे कहने लगा कि गौतम जी आप बिल्कुल ठीक कह रहे हैं मुझे भी यही लगता है और आखिरकार अमित अपने अंदर बहुत बदलाव लेकर आ चुका था। अमित से मैं अक्सर मिला करता था और इसी बीच मैं अपने घर पर चला गया मैं जब अपने घर गया तो मेरी पत्नी अब पहले से ठीक हो चुकी थी और  उसका पैर भी अब ठीक हो चुका था। मैंने अपनी पत्नी से कहा कि तुम अब पहले से बेहतर महसूस कर रही हो तो वह मुझे कहने लगे कि हां मैं पहले से बेहतर महसूस कर रही हूं। मैं उसे डॉक्टर के पास ले गया डॉक्टर ने उसे कुछ दवाइयां दी। अभी भी वह बेड रेस्ट ही कर रही थी परंतु मेरी पत्नी अब थोड़ा बहुत चलने भी लगी थी। मै बेडरूम में लेटा हुआ था घर में काम करने वाली नौकरानी घर की साफ सफाई कर रही थी मैंने देखा कि वह मेरे बटुए से पैसे निकाल रही है उसे लगा कि शायद मैं सोया हुआ हूं। जब मैं उठा तो वह मुझे देखकर एकदम से चौंक गई और मुझे कहने लगी साहब मुझे माफ कर दो वह मेरे पैरों में पड़ चुकी थी और मैंने उसे कहा मैं तुम्हें अभी काम से निकाल दूंगा। वह मुझे कहने लगी साहब आप ऐसा मत कीजिए। मैंने उसे अपने पास बुलाया जब वह मेरे पास आई तो मैंने उसकी तरफ देखा मुझे उसके ब्लाउज और सुडौल स्तन दिखाई दे रहे थे काफी समय से मैंने किसी के साथ सेक्स नहीं किया था और मैं चाहता था कि उसके साथ में सेक्स के मजे लूं। मैंने उसे कहा तुम पहले दरवाजा बंद कर दो उसने दरवाजा बंद कर दिया था और मेरे पत्नी दूसरे कमरे में लेटी हुई थी मैंने उसे कहा तुम मेरे पास आ जाओ। वह मेरे पास आई तो मैंने उसे कहा तुम अपने ब्लाउज को उतार दो? पहले वह मेरी बात नहीं मानी लेकिन फिर उसने मेरी बात मान ली अपने ब्लाउस को उतार दिया मैं जब उसके ब्लाउज को उतार रहा था मैंने देखा उसके स्तन तो बहुत ही बाहर की तरफ निकले हुए हैं। मैंने उसे कहा तुम मेरे लंड को अपने मुंह में ले लो उसने मेरे पजामे को खोलते हुए मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर ले लिया वह जब मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर बाहर कर रही थी तो मैंने उसे कहा तुम और अंदर तक ले लो।

उसने अपने गले के अंदर तक लंड को उतार लिया मैं इतना ज्यादा उत्तेजित हो गया कि मैंने उसे कहा मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा है मैं उसके स्तनों को दबाने लगा मैंने उसे बिस्तर पर लेटा दिया वह बिस्तर पर लेटी हुई थी मैं उसके स्तनों के बीच में अपने लंड को रगड़ रहा था और उसे भी बहुत अच्छा लग रहा था। मैंने उसकी साड़ी को ऊपर किया और उसकी पैंटी को मैंने उतार दिया। जब मैंने उसकी चूत के अंदर अपनी उंगली को घुसाया तो उसकी चूत से निकलता हुआ पानी इतना अधिक होने लगा था कि मैंने उसे कहा मैं तुम्हारी चूत के अंदर अपने लंड को डालना चाहता हूं।

मैंने जैसे ही उसकी चूत पर अपने लंड को लगाया तो वह मचल उठी और मुझे कहने लगी मुझे बहुत ही ज्यादा अच्छा लग रहा है। मैंने अब उसकी चिकनी और मुलायम चूत के अंदर लंड को घुसा दिया था मेरा लंड उसकी चूत के अंदर जा चुका था। मैं उसके स्तनों का  रसपान कर रहा था मैं उसे धक्के मार रहा था मुझे बहुत ही मजा आ रहा था और उसे भी बड़ा मजा आ रहा था। काफी देर तक हम दोनों एक दूसरे के साथ मजे करते रहे फिर मेरा वीर्य गिरने वाला था जब मेरा वीर्य गिरने वाला था तो मैंने उसे कहा मेरा वीर्य गिरने वाला है। जैसे ही मेरा वीर्य गिरा तो मैंने अपने लंड को चूत से बाहर निकाला और दोबारा से अपने लंड को उसके मुंह के अंदर प्रवेश करवा दिया मेरा लंड उसकी चूत के अंदर तक जा चुका था। मैं उसकी चूत के अंदर बाहर लंड को कर रहा था मुझे बहुत ज्यादा खुश थी। मैं उसकी चूतडो पर बड़ी तेजी से प्रहार कर रहा था जिससे कि मेरे अंदर की गर्मी भी लगातार बढ़ती जा रही थी और वह भी मुझसे अपनी चूतड़ों को टकरा रही थी लेकिन ज्यादा देर तक ना तो वह अपने आपको रोक सकी और ना ही मैं अपने आपको रोक पाया और मेरा वीर्य उसकी चूत के अंदर गिर चुका था।


error: