साहब चोद लो और पैसे दे दो


Antarvasna, sex stories in hindi: माया ऑफिस के लिए तैयार हो रही थी मैंने माया से पूछा माया तुम ऑफिस से कब लौटोगी माया कहने लगी कि मैं शाम तक आ जाऊंगी। मैं घर पर ही था माया ने मुझे कहा कि तुम बच्चों को खाना खिला देना मैंने माया से कहा ठीक है जब बच्चे स्कूल जाएंगे तो मैं उन्हें खाना खिला दूंगा। काफी समय से मैं घर पर ही था मेरे पास नौकरी नहीं थी जिस वजह से मैं घर पर ही था मैं अब इस बात से बहुत चिंतित रहने लगा था कि मुझे ऐसी स्थिति में क्या करना चाहिए। माया ही घर की पूरी जिम्मेदारी को अपने कंधों पर उठाये हुई थी लेकिन मुझे भी अब लगने लगा था कि मुझे कुछ करना चाहिए। मैंने जबसे अपना ऑफिस छोड़ा है उसके बाद से मैंने कहीं भी जॉब नहीं की माया एक अच्छी मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब करती है और वही घर के सारे खर्चों को देखती है।

काफी समय से माया ही घर के सारे खर्चे उठा रही थी अब मुझे कहीं ना कहीं इस बात को लेकर चिंता सताने लगी थी कि मुझे ऐसा क्या करना चाहिए जिससे कि मैं भी माया की मदद कर सकूं और मेरे लिए भी यह बहुत जरूरी हो गया था। मैंने अपने दोस्तों को फोन करना शुरू किया लेकिन मेरे दोस्तों ने भी मेरा साथ छोड़ दिया था अब मेरे साथ सिर्फ माया ही खड़ी थी माया के अलावा मेरी जिंदगी में और कोई भी नहीं था जो कि मुझे समझ सकता इसलिए माया ने हमेशा से मेरा साथ दिया है। दोपहर के वक्त बच्चे स्कूल से आ चुके थे मैंने उन्हें खाना खिलाया और बच्चे आराम करने लगे थोड़ी देर बाद वह ट्यूशन जाने वाले थे तो मैंने उन्हें ट्यूशन तक छोड़ दिया और उसके बाद मैं अपने एक परिचित से मिलने के लिए चला गया। मैं जब उनसे मिलने के लिए गया तो मैंने उनसे कहा कि क्या आपकी नजर में कोई काम है। वह कहने लगे कि मैं कोशिश करता हूं मैं तुम्हें पता कर के बताता हूं लेकिन मेरे पास फिलहाल कोई काम नहीं था और मैं बहुत ही ज्यादा परेशानी में अपनी जिंदगी बिता रहा था। कहीं ना कहीं इसमें मेरी गलती ही थी मुझे माया हमेशा ही मना करती कि तुम बहुत ही ज्यादा शराब पीते हो इसी वजह से मुझे मेरी नौकरी से भी हाथ गंवाना पड़ा। काफी समय तक खाली रहने के बाद मैं और भी ज्यादा तनाव में आ गया था लेकिन मेरे परिचित ने मेरा साथ दिया और मेरे लिए उन्होंने नौकरी की तलाश आखिरकार कर ही दी। मुझे नौकरी मिल चुकी थी मैंने जब यह बात माया को बताई तो माया मुझे कहने लगी कि राहुल क्या तुमने नौकरी करने का फैसला कर लिया है।

मैंने माया से कहा हां माया मुझे अब यह बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता कि तुम जॉब पर जाती हो और मैं कुछ भी नहीं कर पा रहा हूं। माया मुझे कहने लगी कि देखो राहुल तुम्हारे और मेरे बीच में कभी भी ऐसा कुछ नहीं रहा हम दोनों ने जब शादी की थी तो उसी वक्त एक दूसरे से हम लोगों ने बात कर ली थी और मैंने भी तो तुम्हें कहा था कि मैं जॉब करना चाहती हूं तुमने भी उस वक्त मेरा साथ दिया था और यदि ऐसी मुसीबत की घड़ी में मैं तुम्हारा साथ नहीं दूंगी तो भला कौन तुम्हारा साथ देगा। जब माया ने मुझे यह बात कही तो मैंने माया से कहा माया लेकिन मुझे लगने लगा था कि मुझे नौकरी करनी चाहिए। अब मैं जॉब पर जाने के लिए तैयार था और बच्चों की जिम्मेदारी के लिए हम लोगों ने घर पर एक नौकरानी रख दी थी। मैं अपनी जॉब में पूरा ध्यान देने लगा था और मेरा काम अच्छे से चल रहा था मैं बहुत ज्यादा खुश हो गया था कि कम से कम मैं अब दोबारा से जॉब करने लगा हूं। एक दिन मुझे माया ने कहा आज मेरी सहेली की एनिवर्सरी है उसने हम लोगों को भी अपनी एनिवर्सरी में बुलाया है तो मैंने माया से कहा माया लेकिन मुझे ऑफिस से आने में देर हो जाएगी। माया मुझे कहने लगी कि कोई बात नहीं तुम जब भी ऑफिस से आओगे तो उसके बाद हम लोग चल लेंगे। माया ने जब मुझे यह बात कही तो मैंने माया से कहा ठीक है माया मैं जब ऑफिस से निकलूंगा तो तुम्हें मैं फोन कर दूंगा। मैं जब ऑफिस से निकला तो उस वक्त मैंने माया को फोन कर दिया और जब मैंने माया को फोन किया तो माया ने मुझे कहा कि तुम कितने बजे तक घर पहुंच जाओगे। मैंने माया को कहा माया बस थोड़ी देर बाद ही मैं घर पहुंच जाऊंगा और थोड़ी देर बाद मैं घर पहुंच गया।

जब मैं घर पहुंचा तो उस वक्त माया मेरा इंतजार कर रही थी माया तैयार होकर हॉल में बैठी हुई थी मैंने माया से कहा कि क्या बच्चों को भी अपने साथ लेकर जाना है। माया कहने लगी कि हां राहुल हम बच्चों को भी अपने साथ लेकर चलेंगे और हम लोग अब माया की सहेली पायल की एनिवर्सरी में जाने के लिए तैयार थे। मैं भी तैयार हो चुका था माया ने मुझे कहा कि आज तुम बहुत अच्छे लग रहे हो तो मैंने माया से कहा माया आज काफी समय बाद तुमने मुझे कहा कि तुम अच्छे लग रहे हो क्या इसके पीछे कोई वजह है। माया मुझे कहने लगी कि नहीं राहुल इसके पीछे कोई भी वजह नहीं है मैं इस बात से बहुत खुश हूं कि तुम अब पहले की तरह ही अपना ध्यान रखने लगे हो। मैंने कहा चलो अभी हम लोग चलते हैं वहां पहुंचने में देर ना हो जाए माया कहने लगी कि चलो ठीक है। मैं और माया जब पायल की पार्टी में पहुंचे तो वहां पर और लोग भी आए हुए थे माया ने मुझे पायल से मिलवाया। हालांकि पायल से मैं उससे पहले भी मिल चुका था लेकिन जब मैं पायल से मिला तो पायल मुझे कहने लगी कि माया तुम्हारी बहुत तारीफ करती है।

मैंने माया से कहा क्या वाकई में तुम मेरी तारीफ करती हो तो माया मेरी तरफ देख कर मुस्कुराने लगी। पायल और मैं आपस में बात कर रहे थे तभी पायल के पति भी वहां पर आ गए और पायल ने मुझे अपने पति से भी मिलवाया। हम लोगों ने पार्टी में काफी अच्छा समय बिताया और काफी समय बाद मैं माया के साथ एक अच्छा समय बिता पा रहा था इसलिए मैं भी बहुत खुश था। हम लोग जब घर वापस लौट रहे थे तो उस वक्त माया ने मुझे कहा कि राहुल तुम आज बहुत अच्छे लग रहे हो और आज मैं तुमसे बहुत खुश हूं। मैंने माया से कहा माया मुझे भी तो तुम हमेशा अच्ची लगती हो और हम दोनों रास्ते भर एक दूसरे से बात करते रहे जब हम लोग घर पहुंचे तो घर पहुंचकर हम दोनों ने काफी देर तक एक दूसरे से बात की। मैंने माया से कहा माया तुम बच्चों को सुला दो तो माया कहने लगी कि ठीक है मैं बच्चों को भी सुला देती हूं माया ने बच्चों को सुला दिया और हम दोनों आपस में बात कर रहे थे। माया ने मुझे पूछा कि तुम्हें आज पायल की पार्टी में जाकर कैसा लगा तो मैंने माया से कहा माया काफी समय बाद तुम्हारे साथ कहीं गया तो मुझे बहुत ही अच्छा लगा। मैं और माया एक दूसरे से बात कर रहे थे मैंने माया के होंठों को चूमा और उसके होठों को जब मै चूम रहा था तो माया ने मेरे लंड को दबाना शुरू किया और उसने मेरे लंड को अपने मुंह में समा लिया उसने मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर लिया वह उसे बहुत अच्छे से चूसने लगी उसे मेरे लंड को चूस कर मज़ा आ रहा था। उसने बहुत देर तक मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर रखा मैं बिल्कुल भी रह नहीं पा रही थी मैंने माया से कहा मुझे लगता है कि मैं तुम्हारी चूत काफी दिनों से अच्छे से नहीं मार पाया हूं मैंने माया की चूत मे लंड को घुसाया और बहुत देर तक मैंने उसकी चूत मारी। मैंने माया की चूत के मजे बहुत देर तक लिए मैंने अब माया की गांड मारी तो मुझे बहुत ही मजा आया। मै माया की गांड मारने में लगा हुआ था उसके बाद मेरा वीर्य गिरा वह बडा ही मजेदार था मैं आराम से सो चुका था। अगली सुबह हमारे घर में काम करने वाली नौकरानी को मैने देखा मैंने देखा माया अपने ऑफिस के लिए तैयार हो रही है माया ने मुझे कहा कि क्या तुम आज ऑफिस नहीं जा रहे? मैंने माया से कहा नहीं आज मैं ऑफिस नहीं जा रहा माया अपने ऑफिस निकल चुकी थी लता घर की साफ सफाई कर रही थी।

मै लता की गांड देख रहा था मैंने लता को अपने पास बुलाया वह मेरे पास आकर बैठी तो मैंने उसके हालचाल पूछे वह मुझे कहने लगी साहब आजकल मेरे पति और मेरे बीच कुछ भी ठीक नहीं चल रहा। मैं और लता एक दूसरे से बात कर रहे थे मैंने लता को अपने बटुए से पैसे निकाल कर दिए और उसने वह पैसे अपने ब्लाउज के अंदर रख लिए। मैंने उसके ब्लाउज में हाथ डालते हुए उसके स्तनों को दबाना शुरू किया मैं उसके स्तनों को दबाता रहा तो मुझे मजा आ रहा था उसके स्तनों को मैंने बहुत देर तक दबाया। मेरा लंड खड़ा हो चुका था मैं अपने लंड को उसकी चूत के अंदर डालना चाहता था मैंने जब लता से कहा कि मैं तुम्हारे लंड को तुम्हारी चूत के अंदर डालना चाहता हूं वह मुस्कुराने लगी।

मैंने उसकी साड़ी को ऊपर उठाते हुए उसकी पैंटी को उतारा और उसकी चूत के अंदर मैंने अपने लंड को डाला तो उसकी चूत के अंदर मेरा लंड चला गया था। अब मैंने बड़ी तेजी से उसे चोदना शुरू कर दिया था मै उसे जिस प्रकार से चोद रहा था मुझे बहुत आनंद आ रहा था। वह मादक आवाज मे सिसकिया ले रही थी जब मैंने उसे घोड़ी बनाया तो मैंने उसे घोड़ी बनाकर चोदा लेकिन ज्यादा देर तक मैं उसकी चूत की गर्मी को ना झेल पाया मैंने अपने माल को उसकी चूत में गिरा दिया। मैंने अपने लंड को उसके मुंह में डाला तो वह लंड को चूसने लगी वह मेरे लंड को बहुत देर तक चूसती रही मैंने उसके मुंह से लंड निकाला और उसकी गांड में लंड घुसाते हुए अंदर की तरफ धकेलना शुरू किया। मैंने उसे बहुत तेज गति से धक्के मारने शुरू कर दिए वह चिल्लाए जा रही थी मैं उसकी गांड के मजे ले रहा था मुझे उसकी गांड मारने में बड़ा आनंद आ रहा था बहुत देर तक मैंने उसकी गांड के मजे लिए वह मुझे कहने लगी कि आज मुझे बहुत अच्छा लग रहा है। मैंने उसकी गांड से खून बाहर निकाल कर रख दिया था जब मैंने अपने वीर्य को उसकी गांड के अंदर गिराया तो वह कहने लगी साहब आज तो मजा ही आ गया। वह हर रोज सुबह आती है और मेरे लंड को चूसते है वह चाहती है मैं उसकी चूत के मजे लू और उसे कुछ पैसे दे दूं।


error: