रुपाली के साथ रोमांटिक सेक्स


Antarvasna, kamukta: रोहित ने मुझे कहा कभी तुम मेरे घर पर भी आया करो। मैंने रोहित से कहा हां मैं जरूर तुम्हारे घर पर आऊंगा। मैं अपनी मौसी को मिलने के लिए गया हुआ था और वहां मेरी मुलाकात रोहित से हुई। जब मेरी मुलाकात रोहित से हुई तो रोहित इस बात से जरूर गुस्सा था कि मैं उसके घर पर नहीं जा पाया लेकिन मेरे पास उस वक्त बिल्कुल भी समय नहीं था। मैंने रोहित से कहा कि मैं अभी चलता हूं मैं तुमसे कुछ दिनों बाद मिलने के लिए आऊंगा। वह मुझे कहने लगा कि ठीक है और फिर मै वहां से चला आया था। थोड़े ही दिनों के बाद मैं रोहित को मिलने के लिए गया जब मैं रोहित को मिलने के लिए उसके घर पर गया तो रोहित काफी खुश था। रोहित और मैं स्कूल में पढ़ा करते थे लेकिन हम दोनों एक दूसरे को मिल नहीं पाए जिस वजह से रोहित बहुत ज्यादा गुस्सा था। रोहित मुझे कहने लगा कि तुम से मेरी मुलाकात हो ही नहीं पाती है लेकिन उस दिन हम दोनों एक दूसरे को मिले तो हम दोनों को बहुत ही अच्छा लगा।

काफी समय बाद मैं उसके घर पर गया था और रोहित के परिवार से मुलाकात हो गई थी। मैं वापस लौट रहा था और जब मैं घर वापस लौटा तो मां ने मुझे कहा कि बेटा तुम मेरे साथ राशन लेने के लिए चलो तो मैंने मां से कहा कि ठीक है मां। हम लोग गुप्ता जी के यहां पर राशन लेने के लिए चले गए उनकी दुकान हमारे घर से थोड़ी दूरी पर ही है। हम लोग वहां से राशन लेकर लौटे जब हम लोग राशन लेकर लौट रहे थे तो मैंने देखा कि हमारे घर के सामने वाले घर में कोई अपना सामान शिफ्ट कर रही थी। मैंने मां से पूछा कि मां क्या कोई यहां रहने के लिए आया है तो मां ने कहा कि हां बेटा और फिर हम लोग अपने घर पर लौट आये। अगले दिन जब मैं अपने ऑफिस जा रहा था तो मुझे अपने घर के सामने वाले घर पर एक लड़की दिखी उस लड़की को देखकर मैं अपने अंदर की भावनाओं को बिल्कुल भी रोक ना सका।

कहीं ना कहीं मैं उसे एक तरफा प्यार करने लगा था परन्तु ना तो मुझे उसका नाम मालूम था और ना ही उससे मेरी कोई बात थी लेकिन फिर भी मैं उसके बारे में जानना चाहता था। वह लोग हमारे पड़ोस में रहते हैं इसलिए हम लोगों का उनके घर पर भी आना जाना होने लगा था। मुझे रूपाली से बात करना अच्छा लगने लगा रूपाली और मुझे बात करना अच्छा लग रहा था और हम दोनों कि एक दूसरे से बातें होने लगी थी। हम लोग एक दूसरे को मिलते है तो हम दोनों को बहुत ही अच्छा लगता है। मैं रूपाली के साथ बहुत ही खुश हूँ हम दोनों की दोस्ती भी काफी अच्छी हो चुकी है। मेरे लिए तो बहुत ही अच्छा है कि रूपाली और मेरी दोस्ती हो चुकी थी। अब हम दोनों एक दूसरे से हमेशा ही मिलने की कोशिश करते और कहीं ना कहीं रूपाली के दिल में भी मेरे लिए कुछ चल रहा था।

रुपाली मुझसे बहुत ज्यादा प्रभावित थी और मेरे दिल में तो रूपाली को लेकर पहले दिन से ही प्यार था जब से मैंने उसे देखा था। रूपाली और मैं एक दूसरे को डेट करने लगे थे। मैंने अपने प्यार का इजहार रुपाली से किया था रूपाली को मेरा साथ अच्छा लगता। रूपाली और मैं एक दूसरे के साथ जब भी होते तो हमें काफी अच्छा लगता है मैं कोशिश किया करता कि मैं रूपाली के साथ ज्यादा समय बिताया करू। जब भी मैं रुपाली के साथ होता हूं तो मुझे बहुत ही अच्छा लगता है हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत ही खुश हैं और मैं रूपाली से बहुत ज्यादा प्यार करता हूं। रूपाली एक दिन मुझे कहने लगी कि हम लोग कुछ दिनों के लिए जयपुर जा रहे हैं। मैंने रूपाली से कहा कि जयपुर से तुम वापस कब लौट रही हो तो वह मुझे कहने लगी कि हम लोग वहां से कुछ दिनों बाद ही वापस लौट आएंगे। जयपुर में रूपाली की बहन रहती है और वह लोग कुछ दिनों के लिए जयपुर चले गए।

रूपाली का पूरा परिवार जयपुर गया हुआ था और वहां से वह लोग कुछ दिनों बाद वापस लौट आए थे। इस बीच मेरी रूपाली से फोन पर कुछ भी बात नहीं हो पाई थी इसलिए जब मैं उस दिन रूपाली को मिला तो मैंने रूपाली से कहा कि मैं तुम्हें बहुत ज्यादा मिस कर रहा था। रूपाली मुझे कहने लगी कि मैं भी तुम्हें बहुत मिस कर रही थी। हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत ही अच्छे से रिलेशन में है और मैं रूपाली को बहुत प्यार करता हूं। मुझे एहसास होने लगा था कि मैं उसके बिना एक पल भी नहीं जी सकता हूं इसलिए मैं कोशिश किया करता कि मैं रूपाली के साथ रहूं। जब मैं ऑफिस से घर लौटता तो रुपाली से मैं हमेशा ही मिला करता। ऑफिस खत्म हो जाने के बाद हमेशा ही मेरी मुलाकात रुपाली से हुआ करती। जब भी हम दोनों एक दूसरे से मिलते हैं तो हमें बहुत ही अच्छा लगता है।

एक दिन रूपाली और मैं साथ में बैठे हुए बातें कर रहे थे उस दिन हम लोग अपने ऑफिस खत्म होने के बाद मिले थे लेकिन रूपाली को कुछ सामान लेना था तो मैं उसके साथ चला गया। जब हम लोग वहां से घर वापस लौट रहे थे तो रूपाली मुझे कहने लगी कि मैं तुमसे बहुत ज्यादा प्यार करती हूं और मैं तुम्हारे बिना एक पल भी नहीं रह सकती हूं, क्या हम लोगों को शादी के बारे में सोच लेना चाहिए। मैंने रुपाली से कहा कि रूपाली हम लोगों को थोड़ा समय एक दूसरे को देना चाहिए मुझे लगता है कि हम दोनों को अभी शादी नहीं करनी चाहिए क्योंकि हमारी उम्र भी अभी इतनी नही हुई है कि हम लोग शादी कर ले। मैं चाहता था कि मैं रूपाली के साथ अच्छे से समय बिताऊं और उसके साथ मैं जब भी होता तो मुझे बहुत ही खुशी मिलती। रुपाली से मिलकर मुझे ऐसा लगता है कि जैसे मेरी सारी परेशानी पल भर में दूर हो गई हो। मैं कितना भी परेशान होता हूं तो रुपाली से बात कर के मुझे बहुत ही अच्छा लगता है।

यही वजह है कि रूपाली और मैं एक दूसरे के साथ बहुत ज्यादा प्यार करते हैं। जब भी हम दोनों एक दूसरे के साथ होते तो हमें बहुत ही अच्छा लगता है। रूपाली और मैं फोन पर बातें कर रहे थे उस दिन पहली बार मैंने उसका फिगर पूछा। रूपाली पहले तो शर्माने लगी लेकिन फिर उसने मुझे अपना साइज बताते हुए कहा लगता है आजकल तुम रोमांटिक मूड मे हो। रूपाली और मैं एक दूसरे के साथ बहुत ही ज्यादा खुश थे। मुझे भी एहसास हुआ मैं और रूपाली एक दूसरे के बिना बिल्कुल भी रह नहीं सकते हैं और मैंने अगले दिन रूपाली को अपने घर पर बुला लिया। घर पर कोई भी नहीं था इसलिए रूपाली जब घर पर आए तो मुझे बहुत ही अच्छा लगा। वह भी बहुत ज्यादा खुश थी। जब हम दोनो साथ मे बैठे हुए बातें कर रहे थे तो मैंने रूपाली को कहा क्या तुम मुझे अपना बदन दिखा सकते हो? वह इस बात पर शर्माने लगी। वह मुझे कहने लगी तुम कैसी बात कर रहे हो।

मैंने रूपाली के होंठों को चूमना शुरू कर दिया था। मैंने उसके होंठों को चूमना शुरू किया तो मुझे मजा आने लगा और रूपाली भी अब अपने आपको बिल्कुल रोक नहीं पा रही थी। ना तो वह अपने आपको रोक पा रही थी और ना ही मैं अपने आपको रोक पा रहा था। मैंने उसे कहा मैं तुम्हारी चूत में लंड को डालना चाहता हूं। मैंने रूपाली की चूत में लंड को घुसाने का फैसला कर लिया था। मैंने जब उसकी चूत मे लंड को घुसाया तो वह चिल्ला रही थी। मैंने रूपाली की चूत में अपने लंड को डाला तो वह बिल्कुल भी रह नहीं पा रही थी और मुझे कहने लगी तुमने मेरी चूत से खून निकाल दिया है। मैंने देखा रूपाली की चूत से खून  निकलने लगा था मैं उसकी चूतडो को देखे जा रहा था। वह बहुत ही ज्यादा मजे में थी मुझे भी अच्छा लग रहा था। जब मैं और रूपाली के साथ सेक्स के मजे ले रहा था तो हम दोनों एक दूसरे की गर्मी को बढ़ाते जा रहे थे। मैं रूपाली को तेजी से चोद रहा था मैंने अपने वीर्य को उसकी चूत में गिरा दिया था।

रूपाली मुझसे दोबारा से सेक्स की इच्छा के पूरा करवानी चाहती थी। मैंने उसे कहा तुम अपनी चूत को साफ कर लो। उसने अपनी चूत को साफ कर लिया था। रूपाली ने अपनी योनि को साफ किया और उसके बाद जब उसने मेरे लंड को चूसना शुरू किया तो उसे मजा आने लगा और वह दोबारा से गर्म होने लगी। मैंने उसे घोड़ी बना दिया। मैंने उसकी चूत के अंदर अपने लंड को घुसाना शुरू किया। वह मुझे कहने लगी मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा है। हम दोनों एक दूसरे की गर्मी को बढ़ाएं जा रहे थे जब मैं उसकी चूत के अंदर अपने लंड को डाल रहा था तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। मैंने अब रूपाली की चूतड़ों पर तेजी से प्रहार करना शुरू कर दिया था। मैंने उसे तेजी से चोदना शुरू किया वह सिसकारियां लेकर मुझे कहती  मुझे बहुत मजा आ रहा है। हम दोनों एक दूसरे की गर्मी को अच्छे से बढाने की कोशिश कर रहे थे। जब मेरा माल उसकी चूत में गिरा तो वह बहुत खुश हो गई और मैं भी बहुत ज्यादा खुश था।