लंड चूत मे जाने के लिए उछल रहा था


Antarvasna, desi kahani: मेरी कॉलोनी में पायल रहा करती थी पायल और मेरी काफी समय तक तो बात नहीं हुई लेकिन जब हम लोगों की बात हुई तो उसके बाद पायल के पापा का ट्रांसफर लखनऊ हो गया और पायल का संपर्क मुझसे काफी सालों तक हो नहीं पाया। मैं भी अपने काम में बिजी था इसलिए मैं पायल के बारे में भूलने लगा था। एक बार मैं अपने किसी परिचित के घर पर गया हुआ था तो वहां से जब मैं लौट रहा था तो रास्ते में मुझे पायल दिखी लेकिन मैं फिर भी दुविधा में था कि क्या वह पायल है, या कोई और क्योकि करीब 5 वर्षों बाद मैंने पायल को देखा था। मुझे लगा कि शायद वह पायल नहीं है परंतु पायल ने मुझे पहचान लिया और उसने मुझसे बात की पायल मुझे कहने लगी कि क्या तुम शोभित हो तो मैंने पायल से कहा हां मैं शोभित हूं। मैंने पायल को कहा तुम काफी बदल चुकी हो वह मुझे कहने लगी कि तुम इतने सालों बाद जो मिल रही हो अब इतने सालों बाद तो बदलाव आएगा ही।

मैंने पायल से कहा लेकिन आज तुम यहां पर क्या तुम किसी काम से आई हुई थी, तुम्हारे पापा का ट्रांसफर तो लखनऊ हो गया था और तुम लोग भी शायद लखनऊ में ही शिफ्ट हो गए थे। पायल ने मुझे बताया कि नहीं हम लोग अब दिल्ली में ही रहने लगे हैं, पायल ने उस दिन मुझे अपना घर भी बताया। मैं अपने जिस परिचित से मिलने के लिए गया था उन्हीं की कॉलोनी में पायल भी रहती थी मैं इस बात से बड़ा खुश था मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि पायल से मेरी मुलाकात हो पाएगी। पायल से मेरी मुलाकात हुई तो मैं बहुत ही ज्यादा खुश हो गया था और पायल भी काफी खुश थी। पायल और मैं एक दूसरे उस दिन काफी देर तक बात करते रहे उसके बाद मैं भी अपने घर चला गया और पायल को भी अपने किसी काम से जाना था तो पायल भी वहां से जा चुकी थी उसके बाद मैं और पायल कई बार एक दूसरे को मिले और हम दोनों एक दूसरे से फोन पर भी बातें करने लगे थे। मेरे लिए तो यह बड़ा ही अच्छा था कि मैं पायल के साथ अब फोन पर बातें करने लगा था पायल बहुत ही ज्यादा खुश थी कि हम दोनों एक दूसरे से फोन पर बातें करने लगे हैं।

एक दिन पायल को मेरी मदद की जरूरत थी तो पायल ने मुझे कहा कि शोभित मुझे तुमसे मिलना है मैंने पायल को कहा कि ठीक है मैं तुमसे मिलने के लिए तुम्हारे घर के पास के रेस्टोरेंट में आता हूं। पायल के घर के पास ही एक रेस्टोरेंट है वहां पर मैं पायल से मिलने के लिए चला गया मैं जब पायल को मिलने के लिए वहां पर गया तो पायल मुझे कहने लगी कि मैं कब से तुम्हारा इंतजार कर रही थी। मैंने पायल को कहा कि मुझे आने में देर हो गई थी पायल मुझे कहने लगी कि चलो कोई बात नहीं। मैंने पायल से कहा कहो पायल तुम्हें क्या कहना था तो पायल मुझे कहने लगी कि शोभित मैं कुछ दिनों से जॉब के लिए ट्राई कर रही हूं लेकिन अभी तक मेरी जॉब कहीं लग नहीं पाई है तुमने मुझे बताया था कि तुम्हारे भैया एक कंपनी में मैनेजर हैं अगर तुम उनसे एक बार मेरी जॉब की बात कर लो तो मेरे ऊपर तुम्हारा बड़ा एहसान होगा। मैंने पायल को कहा इसमें एहसान वाली क्या बात है मैं भैया से बात कर लूंगा और तुम यह बात तो मुझे फोन पर भी बता सकती थी मैं भैया से इस बारे में बात कर लेता। पायल को मैंने पूछा कि क्या तुम कुछ लोगी तो पायल कहने लगी कि नहीं शोभित लेकिन मैंने पायल से कहा कि हम लोग कॉफी का आर्डर करवा देते हैं और मैंने वेटर से कॉफी लाने के लिए कह दिया। वह करीब 15 मिनट बाद कॉफी लेकर आया 15 मिनट का कुछ पता ही नहीं चला, मैं और पायल एक दूसरे से बात कर रहे थे तभी वेटर कॉफी लेकर आया। जब वह कॉफ़ी लेकर आया तो उसके बाद मैंने और पायल ने कॉफी पी, कॉफी पीने के बाद पायल मुझसे कहने लगी कि शोभित अब मैं चलती हूं मैंने पायल को कहा ठीक है मैं इस बारे में भैया से बात कर लूंगा और तुम बिल्कुल भी चिंता ना करो। पायल कहने लगी कि ठीक है तुम इस बारे में भैया से बात कर लेना और उसके बाद मैंने भी भैया से इस बारे में बात कर ली। जब मैंने भैया से इस बारे में बात की तो भैया मुझे कहने लगे कि क्या तुम उस लड़की को जानते हो तो मैंने भैया से कहा हां वह पहले हमारे पड़ोस में ही रहा करती थी। भैया को शायद उसके बारे में ज्यादा पता नहीं था इसलिए भैया उसे पहचानते नहीं थी लेकिन भैया ने पायल की जॉब अपनी ही कंपनी में लगवा दी थी और पायल बड़ी खुश थी की पायल की जॉब लग चुकी है।

पायल मुझे कहने लगी शोभित यह तुम्हारी वजह से ही हो पाया है मैंने फाइल को कहा कोई बात नहीं। अब पायल और मैं एक दूसरे के करीब आते जा रहे थे मुझे जब भी पायल की जरूरत होती तो मैं पायल को फोन करता और पायल हमेशा ही मुझसे मिलने के लिए तैयार रहती। पायल जब भी मुझसे मिलने के लिए आती तो पायल से मुझे मिलना बहुत ही अच्छा लगता। एक दिन पायल और मैं साथ में ही पायल के ऑफिस के बाहर कैंटीन में बैठे हुए थे उस दिन भैया ने मुझे पायल के साथ देख लिया था। उस वक्त तो भैया ने मुझे कुछ नहीं कहा लेकिन जब मैं घर लौटा तो भैया ने मुझसे पायल के बारे में पूछा और कहने लगे कि क्या तुम्हारे और पायल के बीच कुछ चल रहा है तो मैंने भैया से कहा नहीं भैया ऐसा तो कुछ भी नहीं है पायल सिर्फ मेरी अच्छी दोस्त है।

भैया कहने लगे कि शोभित अगर तुम्हारे और पायल के बीच कुछ चल रहा है तो तुम मुझे इस बारे में बता सकते हो और वैसे भी तुम जानते ही हो कि पापा और मम्मी तुमसे कितना प्यार करते हैं। मैंने भैया को कहा नहीं भैया ऐसा कुछ भी नहीं है। मैंने पायल के बारे में भैया को कुछ भी नहीं बताया और ना ही मैं उन्हें बताना चाहता था क्योंकि हम दोनों के बीच अभी ऐसा कुछ भी नहीं था हम लोग सिर्फ अच्छे दोस्त ही थे। हम दोनों की दोस्ती तो बहुत ही ज्यादा बढ़ने लगी थी और पायल को मुझ पर पूरी तरीके से भरोसा भी होने लगा था शायद यही वजह थी कि एक दिन पायल और मैं घूमने के लिए साथ में गए। जब उस दिन हम दोनों साथ में घूमने के लिए निकले तो पायल मेरे साथ मोटरसाइकिल पर थी। उसके स्तनों मुझसे टकरा रहे थे मैंने पायल की जांघ पर अपने हाथ को रखा तो पायल ने कोई आपत्ति नहीं जताई। मुझे बड़ा ही अच्छा लग रहा था जब मैं ऐसा कर रहा था तो पायल को मजा आ रहा था हम दोनो एक दूसरे के लिए तडपने लगे थे। हम दोनों की तडप बढ़ने लगी थी शायद यही वजह थी पायल और मैं एक दूसरे के साथ संभोग करना चाहते थे। हम दोनों एक दूसरे के साथ सेक्स करने के पूरे मूड में थे इसलिए हम दोनों मेरे दोस्त के घर चले गए। जब हम लोग वहां पर गए तो पायल और मैं साथ में ही एक रूम में थे। मैं अपने अंदर की गर्मी को रोक ना सका और पायल के साथ मै चुम्मा चाटी करने लगा। पायल को भी मजा आने लगा था वह मेरा पूरा साथ दे रही थी। वह मुझे जिस तरह से किस कर रही थी उससे मेरे अंदर की आग बढ़ती ही जा रही थी। पायल की आग भी बढ़ चुकी थी वह मुझे कहने लगी मुझे बहुत ही मजा आ रहा है मजा तो मुझे भी बहुत ज्यादा आने लगा था और मेरे अंदर की गर्मी बढने लगी थी। मै पायल की चूत मारने के लिए तैयार था मैंने जब पायल की चूत पर अपने मोटे लंड को लगाया तो पायल मचलने लगी थी। हम दोनों नग्न अवस्था मे थे हम एक दूसरे के साथ लेटे हुए थे अब हम दोनों एक दूसरे के साथ सेक्स करने के लिए तैयार थे। मैं समझ चुका था कि पायल की योनि से ज्यादा ही पानी निकलने लगा है इसलिए तो पायल चाहती थी कि पहले मैं उसकी चूत का रसपान करूं।

मैंने पायल को कहा मैं तुम्हारी योनि का रसपान करने के लिए तैयार हूं और मैंने पायल कि चूत का रसपान करना शुरु किया। मै पायल की चूत चाटने के लिए तैयार हो गया था। मैं जब पायल की चूत चाट रहा था तो मुझे मज़ा आ रहा था। हम दोनों एक दूसरे के बिना बिल्कुल भी रह नहीं पा रहे थे। मैंने पायल की चूत से इतना पानी बाहर निकाल दिया था कि वह मेरे लंड को अपने मुंह में लेने के लिए उतावली हो चुकी थी। उसने जब मेरे मोटे लंड को अपने मुंह में लेकर सकिंग करना शुरू किया तो मुझे मजा आने लगा। मेरे और पायल की तडप बढ़ चुकी थी वह मुझे कहने लगी मेरे अंदर की आग बढ़ चुकी है। मैं अपने आपको बिल्कुल भी रोक नहीं पा रहा था शायद यही वजह थी मैंने पायल की मुलायम चूत पर अपने लंड को लगाकर पायल की चूत के अंदर घुसा दिया।

जब मेरा मोटा लंड पायल की योनि के अंदर प्रवेश हुआ तो वह बड़ी जोर से चिल्लाई और मुझे कहने लगी मैंने सील टूट चुकी है। मुझे तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं लगा था कि पायल की सील बिल्कुल फ्रेश होगी लेकिन वह एकदम सील पैक माल थी। जब मैं उसे धक्के मार रहा था तो मुझे बड़ा ही आनंद आ रहा था और पायल को भी मजा आने लगा था। हम दोनों पूरी तरीके से उत्तेजित होते जा रहे थे मुझे साफ तौर पर यह लग चुका था कि हम दोनों बिल्कुल भी रह नहीं पाएंगे मैंने पायल के दोनों पैरों को ऊपर उठाकर अब उसे बड़ी तीव्रता से धक्के देना शुरू कर दिया था। मैं जिस तीव्रता से पायल की चूत मार रहा था उससे वह उत्तेजित होती जा रही थी और अपनी मादक आवाज में वह सिसकारियां लेकर मुझे अपनी और और भी ज्यादा आकर्षित करने की कोशिश करती। मैं पायल को तेजी से धक्के मार रहा था जैसे ही मेरा वीर्य पतन हुआ तो मैंने पायल को कस कर पकड़ लिया। मुझे नहीं पता कि हम दोनों के बीच सेक्स संबंध कैसे बन गया लेकिन उसके बाद तो मेरे और पायल के बीच सेक्स संबंध बनने लगे थे।


error: