लंड आज भी तडपता है


Antarvasna, desi kahani: यह बात कुछ वर्ष पुरानी है मै उस समय कॉलेज मे था मै ज्यादतर समय दोस्तो को साथ बिताया करता हमारी कॉलोनी मे एक लड़की आती है। मुझे वह लड़की बड़ी पसंद आयी उसकी नशीली आंखे मेरे ऊपर जादू कर गयी मुझे ऐसा लगा मानो मुझे उससे प्यार हो गया। वह हमारे पडोस मे रहती थी बस फिर क्या मेरा आना जाना उनके घर पर होने लगा था लेकिन अब कुछ ज़यादा ही हो गया था। वह भी मुझसे बातें करने लगी थी उसको मेरे साथ बाते करना अच्छा लगने लगा। मै उससे बात करने लगा उसका नाम ममता था मुझे ममता से मिलना अच्छा लगता मुझे उस से बात करने मे मज़ा आता वह मुझसे काफी प्रभावित हो गयी थी मै जब भी कॉलेज जाता तो वह मुझे अपनी घर की छत से देखती थी जब मै घर लौटता तो वह खिड़की के पास बैठी दिखती और मुझे देखती रहती लेकिन दिल की बात कोई भी बोल ना सका था। मेरा मन मे ममता को लेकर ना जाने क्या क्या ख्याल आते रहते थे। मै बढ़ा शरारती था एक दिन मैंने उसे अपने पास बुलाया और बोला मै तुम्हे पंसद करता हूं।

वह मेरी तरफ देखती रही मेरा मन उसे किस करने का हो रहा था लेकिन ममता ने मुझे किस किया। वह मेरे साथ ही ज्यादा समय बिताती थी जब उसने मुझे बताया वह अपनी दीदी के पास रहने के लिए जा रही है तो मै उदास हो गया मै ममता को छोडने भी गया था। मै ममता से फोन पर बात करने लगा मेरी रोज ममता से बात होती थी। ममता और मैं एक दूसरे से फोन पर बात करते थे, ममता अब अपनी दीदी के साथ रहकर ही नौकरी करने लगी थी ममता के जीजा जी विदेश में नौकरी करते हैं जिस वजह से ममता को अपनी दीदी के साथ रहना पड़ रहा था। मैंने एक दिन ममता को कहा मुझे तुमसे मिलना है तो ममता ने मुझे कहा कि गौतम तुमसे मिलना तो मुश्किल हो पाएगा तुम तो जानते ही हो कि दीदी घर पर अकेली रहती हैं और मैं अब नौकरी करने लगी हूं। मैंने ममता को कहा ममता हम कब से मिले नहीं हैं और मैं तुमसे मिले बिना भला कैसे रह सकता हूं तो ममता ने मुझे कहा मुझे पता है गौतम तुम मुझसे बहुत प्यार करते हो।

हम दोनों एक दूसरे से अपना प्यार का इजहार कुछ समय पहले कर चुके थे मेरी भी अब कॉलेज की पढ़ाई खत्म हो चुकी थी और मैं अपनी नौकरी की तलाश में था लेकिन अभी तक मुझे कहीं नौकरी मिली नहीं थी। मेरे कॉलोनी के दोस्त ही मेरे लिए सब कुछ थे ज्यादातर समय मैं उन्हीं के साथ बिताया करता था। एक दिन मैं अपने दोस्तों के साथ अपनी कॉलोनी के पार्क में ही बैठा हुआ था तो उस दिन मुझे ममता दिखाई दी, ममता ने मुझे इस बारे में कुछ बताया नहीं था कि वह अपने घर आ रही है। जब मैंने ममता को देखा तो मैं दौड़ता हुआ ममता के पास गया और ममता से पूछा कि ममता तुमने तो मुझे इस बारे में कुछ बताया ही नहीं था तो वह मुझे कहने लगी कि गौतम मैं तुम्हें सरप्राइज देना चाहती थी। मैंने उसे कहा तुम कितने दिनों के लिए घर आई हो वह कहने लगी कि मैं कुछ दिनों के लिए घर पर ही हूं इस हफ्ते तो मैं घर पर ही रहूंगी और अगले हफ्ते मैं दीदी के पास चली जाऊंगी, कुछ समय बाद जीजाजी भी घर आने वाले हैं। मैंने ममता को कहा चलो यह तो बड़ी अच्छी बात है कि तुमसे इतने समय बाद मुलाकात हुई ममता ने मुझे कहा कि कल हम लोग साथ में मूवी देखने के लिए जाएंगे। मैंने ममता को कहा ठीक है ममता कल हम दोनों साथ में मूवी देखने के लिए जाएंगे और उसके बाद ममता अपने घर चली गई मैं बहुत खुश था और हम दोनों ने फोन पर काफी देर बाद की। हमारी फोन पर बहुत देर तक बात हुई और जब मैंने फोन रखा तो मुझे नींद आ गई मुझे कुछ पता ही नहीं चला कि मुझे कब नींद आ गई और मैं सो गया। अगले दिन ममता ने फोन किया और कहने लगी कि गौतम क्या तुम अभी तक तैयार नहीं हुई हो मैंने ममता को कहा नहीं मैं अभी तक तैयार नहीं हुआ हूं बस थोड़ी देर में ही मैं तैयार हो रहा हूं। थोड़ी देर बाद मैं तैयार हो कर जल्दी से ममता के पास गया जब मैं ममता के पास गया तो वह तैयार थी और हम दोनों मूवी देखने के लिए चले गए। काफी समय बाद हम दोनों मिल रहे थे तो हम दोनों बहुत ही ज्यादा खुश थे और मुझे काफी अच्छा लग रहा था कि मैं इतने समय बाद ममता से मिल पाया। मैंने मूवी की टिकट ली और उसके बाद मैंने ममता से कहा कि तुम मेरे साथ खुश तो हो ना, ममता कहने लगी हां मैं तुम्हारे साथ बहुत खुश हूं।

ममता और मैं मूवी देखने के बाद घर लौट आए। जब हम लोग घर लौटे तो उस दिन मैंने ममता से अपने घर पर चलने के लिए कहा तो वह मेरे साथ मेरे घर पर आ गई जब वह मेरे घर पर आई तो मैंने ममता के होठों को चूम लिया। वह भी अपने आपको रोक ना सकी और मुझे कहने लगी गौतम यह सब ठीक नहीं है लेकिन मैं भला कहां उसकी बात मानने वाला था मैं तो इतने दिनों से ममता को चोदने के लिए तड़प रहा था। ममता भी इस बात से बड़ी उत्तेजित हो गई थी उसने मेरे कपड़े उतार दिए और ममता ने मेरा अंडरवियर नीचे उतार दिया, अंडरवियर नीचे होते ही मेरा 9 इंच लम्बा और मोटा लंड तनकर खडा हो गया। ममता मेरा लंड देख घबरा गई उसकी आँखें फटी की फटी रह गायी। मैंने ममता को पूछा क्या हुआ? वह बोली तुम्हारा लंड कितना काला और मोटा है। मैने ममता को कहा तुम लंड हाथ मे ले लो उसने लंड हाथ मे लिया और मेरे लंड पर तेल लगाना शुरू कर दिया वह बहुत ही अच्छे से मेरे लंड की मालिश करने लगी। वह जब मालिश करती तो मुस्कराती मैने उसको पूछा तुम क्यो मुस्करा रही हो तो वह बोली तुम्हारा लंड तो मेरी चूत फाड देगा वह बहुत देर तक लंड की मालिश करती राही। जब मुझसे नही रहा गया तो मैने ममता को कहा तुम लंड मुंह मे ले लो।

वह बोली तुम मेरी थकान दूर कर दो वह पेट के बल लेट गई। ममता ने अपने कपडे उतारे उसने अपनी गुलाबी ब्रा को उतारा मैं उसकी मालीश तेल लगा कर करने लाग। उसके स्तनो पर मालिश करने से वह उत्तेजित हो जाती मै उसके बूब्स को मसलने लाग उसके मुँह से सिसकिया निकलने लगी। बहुत देर तक उसके स्तनो का मजा लेने के बाद मैंने उसकी जांघो पर तेल लगाना शुरू कर दिया। जैसे जैसे मै मालिश करता जा रहा था उसकी उत्तेजना बढती जा रही थी ममता की गोरी और मोटी जंघों को मालिश करना बडा मजेदार था मै जब उसकी चूतडो तक पहुचा तो उसकी पैंटी के अंदर हाथ डालने लगा ममता की गांड की दरार बहार दिखने लगी थी। मैंने उसकी बडी चूतडो को बहुत देर तक महसूस किया फिर उसकी चूत पर उंगली लगाई तो वह मचल ऊठी और जोर से चिल्लाई उसकी पैंटी गीली हो गयी थी। ऐसा करने से मेरा लंड भी तन कर खडा हो रहा था जब मेरा लंड उसकी चूत से टकराया तो मै खुश था ममता की जालीदार पैंटी को मैने उतार दिया था मैं ममता की चूचिओं को दबाने लगा और अपने लंड को उसकी चूत पर सटाने लगा। ममता के मुँह से उत्तेजना भरी सिसकिया निकलने लागी मुझसे नही रहा गया और मैंने एक जोरदार धक्का लगया मेरे लंड उसकी चूत को फडता हुआ उसकी चूत मे समां गया। वह चिल्लाई यह क्या कर दिया तुम्हे ऐसा नहीं करना चहिये था। ममता को मै जकड चुका था मैंने पूरा लंड चूत मे घुसा दिया था। वह बोल रही थी मेरी चूत फाड दी। उसकी चूत से खून की पिचकारी निकल आई थी। ममता को दर्द हो रहा था पर उसे दर्द मे मजा आ रहा था।

उसने अपनी चूतडो को हलका सा ऊठाया तो मेरा लंड और भी अंदर चला गया। मैंने ममता की कमर पकड कर उसे धक्का लगया तो मेरा लंड और भी कडक हो गया। मै ममता की चूचिओं को मसल रहा था तो मुझे मजा आ रहा था वह जोर से सिसकियां लेकर मेरी आग और भी ज्यादा बढ़ती जब मेरा लंड उसकी चूत को फाड़ रहा था तो वह मुझे कहने लगी तुम्हारा लंड वाकई में बहुत ज्यादा मोटा है और अभी तक मेरी चूत से खून निकल रहा है। वह अपने पैरो को खोलने लगी थी जिससे मेरा लंड उसकी चूत के अंदर आसानी से जा रहा था क्योंकि मेरे लंड पर तेल लगा हुआ था इसलिए ममता की चूत मे मेरा लंड आसानी से अंदर बाहर की तरफ हो रहा था जिससे कि ममता मुझे कहने लगी मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है तुम ऐसे ही मुझे चोदते रहो और मेरी गर्मी को तुम शांत करते रहो।

मैंने उसे कहा मजा तो मुझे बहुत ज्यादा आ रहा है और मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी कि तुम्हें मै चोदूंगा। तुम्हारी कोमल और मुलायम चूत को मैंने आज अपना बना लिया है ना जाने कबसे मैं सपना देखा करता था कि मैं तुम्हें चोदूं। इस बात पर ममता मुस्कुराने लगी ममता की चेहरे की मुस्कुराहट मुझे बहुत ही अच्छी लग रही थी और वह मुझे अपनी ओर आकर्षित कर रही थी लेकिन ममता की चूत की गर्मी को मै झेल ना सका सका। मैंने ममता के मुंह में अपने लंड को डाला तो उसने मेरे लंड को ऐसे चूसा जैसे वह लंड चूसने की ट्रेनिंग लेकर आई हो और उसने मेरे लंड से इतनी गर्मी बाहर निकाल दी कि मैं अपने आपको बिल्कुल रोक ही ना सका। जब मैंने अपने वीर्य को उसके मुंह के अंदर गिराया तो वह बहुत ज्यादा खुश थी मैंने ममता को उसके कपड़े दिया ममता ने अब अपने कपड़े पहन लिए थे उसके बाद ममता चली गई। हम लोगों के बीच काफी समय तक प्रेम संबंध था लेकिन ममता के परिवार वाले मुझसे ममता की शादी करवाने के लिए तैयार नहीं थे जिससे की ममता और मेरी शादी ना हो सकी और अब ममता ने एक एन आर आई लड़के से शादी कर ली है वह विदेश में ही रहती है। हम लोगों की मुलाकात उसके बाद कभी हो ही नहीं पाई मैं ममता के लिए आज भी तड़पता हूं मेरा लंड आज भी उसकी चूत मे जाने के लिए बहुत ज्यादा बेताब रहता है।


error: