कोमल के कमसिन नखरे


hindi sex stories, antarvasna मैं एक मीटिंग के सिलसिले में मुंबई से दिल्ली गया हुआ था मेरे साथ मेरे ऑफिस के और भी क्लाइंट थे, मुझे उस वक्त दिक्कत का सामना करना पड़ा जब मैं होटल से एयरपोर्ट के लिए निकल चुका था लेकिन मेरा कुछ जरूरी सामान होटल में ही रह गया था मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं अब वह सामान वहां से कैसे लाऊं। मैं जिस ऑफिस में मीटिंग के लिए गया था वहीं की एक स्टाफ मुझे दिखाई दी उसका नाम कोमल है, कोमल से जब मैंने यह बात कही तो कोमल कहने लगी सर आप चिंता मत कीजिए मैं अपने भैया से कह देती हूं। कोमल का घर उस होटल के पास ही था उसने अपने भैया से कहकर वह सामान मंगवा लिया, जब वह सामान मुझे मिल गया तो मैंने कोमल को उसके लिए धन्यवाद कहा, कोमल कहने लगी सर आपको उस वक्त मेरी जरूरत थी तो मैंने आपकी मदद की, कभी मुझे आपकी जरूरत पड़ेगी तो मैं आपसे जरूर मदद लूंगी, यह कहते हुए वह चली गई।

मेरी फ्लाइट भी कुछ देर बाद थी मैं भी मुंबई लौट आया मैं मुंबई लौट आया तो मैं अपने काम में ही व्यस्त हो गया और मुझे जब थोड़ा बहुत समय मिलता तो मैं अपने परिवार के साथ समय बिताता था लेकिन काम का कुछ ज्यादा ही बोझ होने की वजह से मैं कुछ समय से अपने परिवार को समय नहीं दे पा रहा था, मैं सोचने लगा कि जब मुझे थोड़ा टाइम मिलेगा तो मैं अपनी पत्नी और बच्चों को अपने साथ घुमाने के लिए कहीं लेकर जाऊंगा लेकिन मुझे समय नहीं मिल पा रहा था परंतु जब मुझे टाइम मिला तो मैंने घूमने का निर्णय कर लिया, मैंने सोचा क्यों ना अपने परिवार को किसी अच्छी जगह घुमाने के लिए लेकर जाया जाए। मैंने इस बारे में अपने दोस्तों से भी बात की लेकिन सबने मुझे मुंबई के आसपास की ही जगह के बारे में बताया और मैं उन सब जगह पहले ही घूम चुका था इसलिए मुझे किसी नई जगह जाना था। मेरे पुराने मित्र हैं जो कि मध्यप्रदेश में रहते हैं मैंने उनसे पूछा तो वह कहने लगे आप कुछ दिनों के लिए मध्यप्रदेश में आ जाइए यहां पर घूमने की नई नई जगह है, मैंने भी सोचा कि चलो इस बार मध्य प्रदेश ही घूम लिया जाए।

मैं जब मध्य प्रदेश गया तो उन्होंने ही हमारे रुकने की सारी व्यवस्था करवाई थी मुझे किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं हुई, मैं मध्यप्रदेश के पन्ना में भी कुछ दिनों तक रुका, मैं लंबे टूर पर निकला हुआ था तभी एक दिन मैंने अपनी फेसबुक पर देखा कि मुझे कमल ने फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी है लेकिन मैं उसकी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट नहीं कर पाया था क्योंकि मैं ज्यादातर फेसबुक का इस्तेमाल नहीं करता परंतु जब मैंने उसकी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली तो उसने मुझे मैसेज करते हुए कहा सर मेरे पास आपका नंबर नहीं था इसीलिए मैंने आपको फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी। जब उसने मुझसे मैसेज में यह कहा तो मैंने उसे तुरंत रिप्लाई करते हुए अपना नंबर दे दिया, मैंने सोचा कि चलो क्यों ना मैं अपनी कुछ फोटो फेसबुक पर पोस्ट कर देता हूं, वैसे मेरी आदत नहीं है कि मैं अपनी फोटो फेसबुक पर पोस्ट करू परंतु उस दिन मैंने अपनी फोटोऐ फेसबुक पर पोस्ट कर दी, जब वह कोमल ने देखी तो कोमल ने उस फोटो के नीचे कमेंट करते हुए कहा सर आज कल आप लोग कहां घूम रहे हैं? मैंने कोमल से कहा मैं अपने परिवार के साथ मध्य प्रदेश आया हूं और फिलहाल मैं पन्ना में ही रुका हूं। जब यह बात मैंने कोमल से कहीं तो कोमल कहने लगी हमारा पुश्तैनी घर भी पन्ना में ही है जब उसने यह बात कही तो मैंने उससे कहा तो फिर तुम भी कुछ दिनों के लिए यहीं घूमने के लिए आ जाओ, कोमल मुझे कहने लगी ठीक है सर मैं देखती हूं लेकिन वह उस वक्त आ नहीं पाई उसके बाद भी कोमल और मेरी बात अक्सर होती रहती थी। एक दिन मुझे कोमल का फोन आया और वह कहने लगी सर मुझे मुंबई किसी काम से आना है लेकिन मुझे वहां के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है, मैंने कोमल से कहा कोई बात नहीं तुम मुंबई आ जाओ मैं सब कुछ देख लूंगा, मैंने कोमल कि रुकने की व्यवस्था अपने घर पर ही कर दी, कोमल भी कुछ दिनों बाद मुंबई आ गई। मैंने जब कोमल से पूछा कि तुम यहां किस काम से आई हो तो वह कहने लगी सर मुझे कुछ काम था लेकिन उसने मुझे बताया नहीं कि वह किस काम से मुंबई आई हुई है, कोमल मेरे घर पर पूरे अच्छे तरीके से घुल मिल गई वह मेरी पत्नी के साथ बड़े अच्छे तरीके से घुल मिल गई थी, मेरी पत्नी और उसके बीच में बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी उसे हमारे घर पर रहते हुए एक हफ्ता हो चुका था।

उसे भी अब हमारे साथ रहना अच्छा लगने लगा था एक दिन मैंने जब उसे बाथरूम में टॉयलेट करते हुए देख लिया तो मुझे उसे चोदने का मन होने लगा। दरअसल हुआ यूं कि कोमल बाथरूम में टॉयलेट कर रही थी उसने दरवाजा बंद नहीं किया था मैंने जब दरवाजे को पूरी ताकत से खोला तो दरवाजा खुल गया जब मैंने उसकी बड़ी चूतड़ों को देखा तो मुझे उसकी चूत मारने का मन होने लगा परंतु मेरी पत्नी के रहते हुए यह संभव नहीं था। एक दिन मैंने अपनी पत्नी से कहा आज मुझे ऑफिस में बहुत काम है तुम भैया के यहां से मेरा कुछ जरूरी सामान ले जाओ। मैंने जब उसे फोन किया तो वह अकेली ही भैया के घर चली गई मैं तुरंत घर लौट आया कोमल घर पर अकेली थी। कोमल मुझे देखते ही खुश हो गई और कहने लगी आप तो बड़ी जल्दी आ गए। मैंने भी उसकी जांघ पर हाथ रख दिया जब मैंने अपने हाथ को उसकी पतली कमर पर रखा तो उसके अंदर से जैसे एक अलग ही गर्मी पैदा होने लगी। जब मैंने अपने हाथों को उसके स्तनों की तरफ बढ़ाया तो उसके बड़े बड़े स्तनों को मुझे दबाने में बड़ा मजा आ रहा था उसने मेरे हाथ को झटकते हुए कहा आप यह क्या कर रहे हैं।

मैंने उसे कहा कुछ भी तो नहीं कर रहा बस ऐसे ही तुम्हारे बदन को सहला रहा था। वह मुझे कहने लगी यह मुझे बिलकुल अच्छा नहीं लगता मैंने थोड़ी देर बाद दोबारा से उसके बदन को सहलाना शुरू कर दिया वह भी अपने आप को कितने देर तक रोक पाती। मैंने उसकी चूत को अपने हाथ से दबाया तो उसने मुझे कुछ नहीं कहा मैंने भी उसे उठाते हुए अपने बिस्तर पर पटक दिया। मैंने उसकी जींस और उसकी टी-शर्ट को उतारा तो उसने पिंक कलर की जालीदार पैंटी पहनी हुई थी उस पैंटी में से उसकी चिकनी चूत साफ दिखाई दे रही थी। मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू किया तो उसकी चूत की खुशबू से मैं उसकी तरफ आकर्षित होता चला गया। मेरा लंड भी एकदम से उसकी चूत में जाने के लिए उतावला हो गया मैंने जब कोमल की चूत पर अपने लंड को रगडा तो मेरा लंड धीरे धीरे उसकी चूत के अंदर ही जाने लगा। मैने अपने लंड को पूरा उसकी चूत मे घुसा दिया मैंने अपने हाथों से उसके स्तनो को दबाया और उसके दोनों पैरों को मैंने जब अपने कंधों पर रखते हुए उसे धक्के मारना शुरू किया तो मेरा लंड उसकी चूत के पूरे अंदर तक जा रहा था। उसने भी शायद यह कभी कल्पना नहीं की थी लेकिन मुझे उसे चोदने में मजा आ रहा था मैंने जब अपने वीर्य को उसके बड़े स्तनों के ऊपर गिराया तो वह बहुत खुश हो गई। जब मैंने उसकी चूत की तरफ देखा तो उसकी चूत से खून टपक रहा था मैंने जब उसकी चूत पर अपनी उंगली को लगाया तो उसकी चूत से लगातार तेज गति से खून का रिसाव हो रहा था। मुझे तो बहुत मजा आया लेकिन उसे भी मुझसे अपनी चूत मरवाने में बड़ा मजा आया उसने जब मुझे अपने गले लगाया तो वह मुझे कहने लगी मुझे तो आज आप के साथ सेक्स करने में बड़ा मजा आ गया। मेरी पत्नी जब घर आई तो वह मुझे देखकर चौक गई वह कहने लगी तुमने तो मुझे कहा मुझे आज आने में लेट हो जाएगी लेकिन तुम तो घर जल्दी आ गए। मैंने उसे कहा हां दरअसल मुझे ऑफिस में जरूरी काम था लेकिन मैंने वह काम अपने एक जूनियर को दे दिया उसके बाद मैंने सोचा मैं जल्दी घर चला जाता हूं। मेरी पत्नी ने मुझे कुछ नहीं कहा मैंने अपनी पत्नी से पूछा क्या तुमने भाई साहब से मेरा सामान ले लिया। वह कहने लगी हां मैंने उनसे तुम्हारा सामान ले लिया है लेकिन मुझे पता होता कि तुम जल्दी आने वाले हो तो हम लोग कहीं घूमने का प्लान बनाते। मैंने अपनी पत्नी से कहा ठीक है हम लोग अभी कहीं घूमने चलते हैं अभी कौनसा ज्यादा देर हो गई है। हम लोग उस दिन घूमने चले गए मैं रास्ते भर कोमल की गांड को दबाता रहा।