किरायेदार से अपनी चुदाई करवाई


pyasi chut हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप सभी लोग ? मैं उम्मीद करती हूँ की आप लोग ठीक ही होगे | दोस्तों आप लोग चुदाई का मज़ा तो ले ही रहे होगे और मैं भी भगवान से यहीं प्रथना करूँगी की आप लोग ऐसे ही चुदाई करते रहो और हम जैसी औरतो को खुश रखो | मैं सेक्सी कहानियाँ काफी महीनो से लगातार पढ़ती आ रही हूँ और मैंने जो अभी तक कहानी पढ़ी हैं वो मुझे बहुत पसंद भी आई | दोस्तों मुझे अपनी चुदाई कराने में बहुत मज़ा आता है और मैं इसलिए अपनी चुदाई खूब कराती हूँ | दोस्तों मैं कहानी को शुरू करने से पहले अपने बारे में बता देना चाहती हूँ | मेरा नाम पायल है और मेरी उम्र 30 साल है | मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है | मैं दिखने में बहुत गोरी हूँ और मेरा फिगर भी बहुत सेक्सी हैं | मैं आप लोगो को अपने फिगर के बारे में बता देती हूँ | मेरे बड़े बड़े बूब्स है जो काफी गोल और चिकने हैं | मेरी गांड बहुत चौड़ी है जिसको देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो जाये | मेरी शादी को 10 साल हो गए हैं और मेरी पति को मेरी गांड बहुत पसंद है | मेरे पति मेरी रोज ही चुदाई करते हैं | मेरा एक लड़का है जो अभी पढाई करने के की वजह से बाहर रहता है | मैं अपने घर में अपने पति के साथ रहती हूँ | दोस्तों मैं जो आज कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ | मैं आप लोगो से उम्मीद करती हूँ की पसंद आयेगी और कहानी को पढने में मज़ा भी आयेगा |
ये कहानी तब की है जब मैं 19 साल की थी | मैं तब दिखने में अब से ज्यादा सेक्सी थी और तब मैं चुदाई की बहुत ज्यादा ही भूखी थी | मैं चुदाई करना अब भी पसंद करती हूँ पर अब उतनी चुदाई की भूख नही रह गयी | दोस्तों उस टाइम मेरी शादी नही हुई थी और मेरे घर में एक लड़का किराए से कमरा लेकर रहता था | मैं लड़के के बारे में बता देती हूँ | उस लकड़े का नाम दिपक था | वो दिखने में काफी हट्टा कट्टा था जिससे वो स्मार्ट भी लगता था | जब वो मेरे घर में रहने लगा तो वो काफी काफी मुझसे किसी न किसी काम की वजह से बात भी कर लिया करता था | जब मैंने उसे पहले देखा तो मुझे वो इतना अच्छा नही लगा | फिर जब वो रहने लगा तो वो मुझे बहत अच्छा लगने लगा और मेरे मन में उसके लंड से चुदने की इच्छा हुई | जब मेरे मन में ये बात आई तो मैं उसे लाइन भी मारती और कोई भी काम होता तो मैं उसका काम कर देती थी | वो लकड़ा यहाँ पढाई करता था जिसकी वजह से रुकता था | दीपक मुझे बहुत कम देखता और मुझसे बात भी नही करता | तब मैंने सोचा पहले तो इसका ध्यान अपनी और करती हूँ | फिर उसे अपने हुस्न के जाल में फांस लेती हूँ | उस टाइम मेरे सर पर उससे चुदने का भुत सवार था और मैं उसके लंड की भूंखी थी | अब मैं जब उसको देखती तो उसको सेक्सी नज़रो से देखती और वो मेरी तरफ तिरछी नजर से देख कर अपनी नज़रो को हटा लेटा | दोस्तों इतनी हॉट लड़की अगर किसी को थोडा सा भी मौका दे तो वो उस मौके का पूरा फायदा उठा ले पर दीपक तो मेरी तरफ देखता ही नही था |
तब मैंने सोच लिया की जिस दिन मेरे घर में मेरी मम्मी नही होंगी उस दिन मैं इसके तगड़ा डोज दूंगी | मेरे घर में मैं और मेरी मम्मी ही रहती थी और मेरे पापा तो सरकरी जॉब करते थे जिसकी वजह से वो बाहर रहते थे | मेरी मम्मी कभी कभी अपनी सहलियों के साथ घुमने या पार्टी में जाया करती थी | एक दिन की बात है जब मम्मी ने मुझसे कहा की जो घर में लकड़ा रहता है | उससे बोलना की आज खाना यही खा लेगा क्यूंकि दीपक खाना बाहर से खाता था जिससे मम्मी कभी कभी उसके लिए घर ही खाना बना लिया करती थी | दीपक लड़का तो बहुत सीधा था पर मैं उसे बिगाड़ने पर तुली हुई थी | जब मैं उसके रूम में उसे बताने गयी तो मैंने उसके कालर को पकड कर बोली क्या है मैं अच्छी नही लगती हूँ या मेरा फिगर ठीक नही है | वो बोला पहले तो तुम मेरा कालर छोड़ो नही मैं आंटी को आवाज दूंगा | मैं बोली यार तेरी प्रोबलम क्या है इतनी सेक्सी लड़की तुझे लाइन देती है और तू है की भाव खता है | उस दिन मैं उसको पकड़ कर बेड पर लेटा दिया और उसके हाथ को पकड कर अपनी कमर पर रख दिया | दोस्तों जब मैंने उसके हाथ को कमर पर रखा तो उसके शरीर में जैसे करंट लग गया हो वैसे कांपने लगा | मैं उसको ऐसे छोड़ने वाली नही थी तो मैंने अपनी ऊँगली से उसकी होठो को सहलाती हुई उसकी होठो पर अपनी होठो को रख कर किस कर दिया | मैं उसकी होठो को कुछ देर चूसने के बाद बोली जा अब तू मम्मी से बोल देना की मैंने तुझे किस की है | तब मम्मी पूछेंगी की तुमने आवाज क्यूँ नही दी तो कह देना की मैं भी कर रहा था | मैं ये कहकर हँसती हुई बाहर चली गयी |

फिर वो कुछ देर बाद खाना खाने के लिए आया तो मैं उसके पास बैठ कर खाना खाने लगी | मेरी मम्मी सामने बैठी थी | जब मैं दीपक के पास बैठ कर खाना खा रही थी तो दीपक ने मेरी जांघ में चुटी काट ली जब उसने ऐसा किया तो मुझे अच्छा लगा और मैंने भी उसके हाथ पर हाथ मार दिया | फिर हम दोनों बैठ कर खाना खा ही रहे थे की मम्मी उठ कर कुछ लेने अन्दर चली गयी | तभी मैंने उसकी होठो को अपनी होठो को रख कर एक छोटी सी किस कर दी और बैठ कर खाना खाने लगी | फिर सब लोग खाना खाने के बाद लेट गए | दोस्तों उसकी हिम्मत देख कर मुझे अच्छा लगा और अब जब ही हम दोनों को मौका मिलता तो किस कर लेते थे | उसके कुछ दिन बाद की बात है जब मेरी मम्मी किसी पार्टी में जा रही थी और मेरी मम्मी जब ही पार्टी में जाती है तो सुबह ही आती थी | मैं उस दिन दीपक के कमरे में गयी और स्टाइल से उसको पकड कर अपनी और खीच लिया और बोली की आज दिखा अपना दम | वो मेरी कमर में हाथ को डाल कर मुझे अपनी और खीच लिया और मेरी होठो को पर अपनी होठो को रख कर मेरी होठो को चूसने लगा | वो मेरी होठो को चूसने के साथ मेरे बड़े और चिकने बूब्स को कपडे के ऊपर से दबाने लगा | मैं उसकी होठो को चूस रही थी और वो मेरी होठो को चूसने के साथ बूब्स को दबा रहा था | वो मेरी होठो को ऐसे ही कुछ देर तक चूसने के बाद मेरे कपडे उतारने लगा | मैं भी उसका साथ देती हुई अपने कपडे निकाल दिए जिससे मैं उसके सामने ब्रा और पैंटी में आ गयी | वो मेरे एक दूध को ब्रा के ऊपर से मुंह में रख कर चूसने लगा और मैं उसके बिस्तर पर लेट कर उसके सर को बूब्स पर दबाने लगी | वो मेरे दूध को दबाने के साथ मेरी ब्रा को भी खोल दिया जिससे मेरे बड़े बूब्स उसके सामने आ गए | वो मेरे एक दूध के निप्पल को मुंह में रख कर चूसने लगा और दुसरे वाले दूध को हाथ से पकड कर मसलने लगा |
वो मेरे दोनों बूब्स को ऐसे ही 5 मिनट तक चूसने के बाद मेरी पैंटी को निकाल कर मेरी चूत में जीभ को घुसा कर चाटने लगा | मैं आ आ आ… ऊ ऊ ऊ ऊ…. हह ह ह ह…. सी सी सी… की सिसकियाँ लेने लगी | वो मेरी चूत को चाटने के साथ मेरी चूत में ऊँगली भी घुसा दी जिससे मेरे मुंह से तेज आवाज में सेक्सी आवाजे निकलने लगी | वो मेरी चूत में ऐसे ही कुछ देर तक ऊँगली को अन्दर बाहर करता रहा | फिर अपने कपड़ो को निकाल कर मेरे मुंह में लंड को घुसा कर चूसाने लगा | मैं उसके लंड को हाथ में पकड कर चूसने लगी | मैं उसके लंड को मुंह में रख कर जोर जोर से अन्दर बाहर करती हुई चूस रही थी | वो अपने लंड को ऐसे ही मेरे मुंह में 4 मिनट तक चुसाने के बाद मेरे मुंह से निकाल कर मेरी चूत के चेंद पर अपने लंड को रख कर घुसा दिया जिससे मेरे मुंह से जोरदार सिसकियाँ निकल गयी | वो मेरी चूत में लंड को डाल कर जोरदार धक्को के साथ अन्दर बाहर लरते हुए मुझे चुदने लगा | मैं बिस्तर को कस के पकड़ कर आ आ आ…. सी सी सी…. ऊ ऊ ऊ ऊ… ह ह ह ह… की सेक्सी आवाजे कर रही थी | वो मेरी चूत में जब जोर जोर के धक्के मारता तो मेरे बड़े बड़े बूब्स जोर जोर से हिलते | मैं अपने बूब्स को पकड कर जोरदार धक्को के साथ चुद रही थी | वो मुझे मस्त धक्के के साथ चोद रहा था | मैं मज़े लेती हुई अपनी चूत को सहला रही थी | वो मुझे ऐसे ही जोरदार धक्को के साथ 14 -15 मिनट तक चोदने के बाद मेरी चूत से लंड को निकाल कर झड गया | फिर उस दिन कोई आने वाला था नही तो हम दोनों ऐसे ही बिना कपड़ो के लेट गए | उसके कुछ टाइम बाद उसका लंड फिर खड़ा हो गया और उसने मेरी उस रात दो बार चुदाई की थी | मैं मज़े लेती हुई चुदी थी | उसके बाद उसने मुझे कई बार चोद और फिर मेरी शादी हो गयी | तब से उसने मुझे नही चोदा है |
धन्यवाद……………


error: