चूत तडप ऊठी थी


Antarvasna, kamukta: मैं और सोहन बचपन के दोस्त हैं सोहन उस दिन मेरे घर पर आया हुआ था वह काफी परेशान लग रहा था मैंने उसे कहा तुम्हारी परेशानी की क्या वजह है तो उसने मुझे बताया कि कुछ समय से उसके बिजनेस में काफी ज्यादा नुकसान हो रहा है इस वजह से वह बहुत ज्यादा परेशान हो चुका है। मैंने उसे कहा कि लेकिन तुम्हें परेशान होने की जरूरत नहीं है सब कुछ ठीक हो जाएगा मुझे नहीं पता था कि सोहन इस परेशानी से निकल नहीं पाएगा और उसकी मानसिक स्थिति भी बिगड़ने लगी थी। एक दिन जब मैं सोहन के घर पर गया तो उसकी मां ने मुझे बताया कि सोहन किसी से भी बात नहीं करता और वह अपने कमरे में ही रहता है। मैं जब सोहन को मिला तो मुझे लगा कि सोहन बहुत ज्यादा परेशान है मैंने उससे ज्यादा बात तो नहीं की लेकिन जितनी देर भी मेरी उससे बात हुई मुझे लगा कि सोहन को किसी साइक्लोजेस्ट की जरूरत है। मेरे पहचान में एक साइकोलॉजिस्ट थे जब उनसे सोहन को मैंने मिलवाया तो उन्होंने सोहन को देखकर कहा कि सोहन ठीक हो जाएगा।

धीरे-धीरे सोहन की मानसिक स्थिति में सुधार आने लगा था और सब कुछ ठीक होने लगा था। एक दिन मैं और सोहन साथ में बैठे हुए थे तो उस दिन सोहन ने मुझे गरिमा के बारे में बताया यह बात मुझे पहली बार ही पता चली थी मुझे गरिमा के बारे में कुछ भी पता नही था। मैं गरिमा के बारे में जानता भी नहीं था सोहन ने कभी भी इस बात का जिक्र किसी से नहीं किया था ना तो उसके परिवार वाले इस बारे में जानते थे और ना ही मुझे इस बारे में कुछ पता था लेकिन जब मुझे उसने यह बताया तो मैं यह बात सुनकर हैरान हो गया। उसने मुझे कहा कि यह सब गरिमा की वजह से ही हुआ है गरिमा और वह दोनों रिलेशन में थे लेकिन जब गरिमा उससे पैसों की कुछ ज्यादा ही डिमांड करने लगी तो सोहन इस बात से परेशान होने लगा और सोहन ने मुझे बताया कि उसके बाद गरिमा उसे छोड़कर चली गई जिस वजह से वह इस स्थिति में आ गया। मैंने उससे कहा क्या तुमने उसके बाद गरिमा से कभी संपर्क करने की कोशिश नहीं की उसने मुझे कहा नहीं आकाश मैंने कभी भी गरिमा से इसके बाद बात करने की कोशिश नहीं की और ना ही वह मुझे कभी मिली।

मुझे यह तो साफ तौर पर पता चल चुका था कि गरिमा की वजह से ही वह इतना ज्यादा तनाव में आ गया था उसने मुझे गरिमा की तस्वीर भी दिखाई मैंने उसे कहा कि अब तुम यह भूल कर अपनी जिंदगी में आगे बढ़ो और तुम्हारे जीवन में सब कुछ ठीक हो जाएगा। सोहन अब अपने काम पर ध्यान देने लगा था वह सब भूल कर अब आगे बढ़ चुका था लेकिन यह भी बड़ा अजीब इत्तेफाक था कि एक दिन मैं अपने किसी परिचित के घर गया हुआ था उनके घर पर मैंने उस दिन गरिमा को देखा मैं यह बात सोहन को बताना नहीं चाहता था लेकिन मैं पता करना चाहता था कि आखिर माजरा क्या है। मेरे उन परिचित ने मुझे बताया कि गरिमा हमारे पड़ोस में ही रहती है और उसकी शादी अभी 6 महीने पहले ही हुई है। सोहन को उसने धोखा दिया था और उसके बाद उसने शादी कर ली सोहन उसे बहुत प्यार करता था जिस वजह से सोहन मानसिक रूप से तनाव में आने लगा था लेकिन गरिमा को तो इस बात से कोई फर्क ही नहीं पड़ा था उसने सर्फ सोहन के जज्बातों के साथ खिलवाड़ किया। सोहन इस बात से बहुत ज्यादा परेशान था लेकिन गरिमा जैसे इस बात से अनजान थी और उसने शादी कर ली। मैं चाहता था कि गरिमा को मैं एक बार तो इस बारे में बताऊं, मैं उसे बताना चाहता था कि उसकी वजह से सोहन की क्या हालत हो गई थी इसलिए मैंने गरिमा से इस बारे में बात करने का फैसला किया। जब मैं अपने परिचित के घर गया तो उनके घर पर गरिमा आई हुई थी उस वक्त मैंने उसे कहा कि तुम मुझसे शाम के वक्त मिलना मुझे तुमसे कुछ जरूरी बात करनी है। गरिमा इस बात से चौक गई उसने मुझसे कहा कि लेकिन तुम्हें क्या बात करनी है तो मैंने उसे कहा कि मुझे तुमसे सोहन के बारे में बात करनी है यह सुनते ही उसके चेहरे का रंग लाल हो गया था और वह मुझे कहने लगी की ठीक है मैं तुमसे शाम को मिलती हूं। उसने इसके आगे मुझसे कुछ भी नहीं कहा मैंने उसे अपना नंबर दे दिया था, शाम के वक्त जब वह मुझे मिलने के लिए कॉफी शॉप में आई तो मैंने उससे कहा कि तुमने सोहन के साथ ऐसा क्यों किया। मैंने उसे सोहन की स्थिति के बारे में बताया तो वह मुझे कहने लगी कि मैं उसके साथ ऐसा नहीं करना चाहती थी लेकिन मेरे परिवार वाले मेरी शादी कहीं और करवाना चाहते थे।

मैंने गरिमा से कहा देखो गरिमा तुम मुझसे झूठ मत बोलो मुझे पता है तुम्हारे परिवार वाले क्या चाहते थे उन्होंने कभी भी तुम पर शादी के लिए दबाव नहीं बनाया लेकिन सोहन के साथ तुमने जिस तरीके से किया वह बिल्कुल ही गलत है तुम्हारी वजह से सोहन की मानसिक और आर्थिक स्थिति दोनों ही खराब हो गई लेकिन वह अब अपनी इस स्थिति से उबरने की कोशिश कर रहा है। मैं समझ चुका था कि गरिमा की ही सारी गलती है और मैं गरिमा को उसकी गलती का एहसास करवाना चाहता था मैंने उसे कहा कि मैं तुम्हारे परिवार में इस बारे में बात करना चाहता हूं। वह मुझसे कहने लगी कि तुम यह बात किसी को भी मत बताना मैंने उसे कहा लेकिन तुमने जो मेरे दोस्त के साथ किया है क्या वह ठीक था और फिर मैं वहां से गुस्से में चला आया। गरिमा ने मुझे फोन करके अपने घर पर बुलाया और कहा कि मुझे तुमसे मिलना है। मैं उससे मिलने के लिए चला गया। जब मै उससे मिलने गया तो वह मुझे समझाने लगी और कहने लगी कि देखो तुम मेरी जिंदगी क्यों बर्बाद कर रहे हो।

यह बिल्कुल भी ठीक नहीं है यदि मेरे परिवार वालों को इस बारे में पता चला मेरे पति को इस बारे में पता चला तो वह लोग मेरे बारे में क्या सोचेंगे। यह कहते हुए उसने मेरे सामने अपने बदन को पेश करना शुरू किया तो मैं समझ गया कि वह मुझसे क्या चाहती है वह चाहती थी कि मैं यह बात किसी को नहीं बताऊं। मैंने बात करते करते एक हाथ उसके स्तनो पर रख दिया, मैंने देखा की उसके स्तन पूरी तरह से टाइट हो चुके थे। अब मैं समझ गया था वह बिल्कुल रह नही पा रही है। फिर मैंने उसके स्तनो को प्रेस किया फिर मैं उसके करीब गया अब उसने अपनी ऑखे बंद कर ली थी मैंने उसके होठो पर किस किया, और एक हाथ से उसके स्तनो को मसल दिया। वह भी पूरी तरह साथ दे रही थी, मैं उसे किस करने लगा। अब मैं जोर जोर से उसके बड़े बड़े स्तनो को मसल रहा था। मैंने अपनी जीभ को उसके मुह में डाला वह उसे चूसने लगी वह मेरे होठो को छोड़ने का नाम ही नही ले रही थी। मैंने उसके ब्लाऊज को एक ही झटके में फाड़ दिया, और उसकी ब्रा को मैंने निकाल दिया। उसके स्तन मुझे दिखने लगे मैं उन पर टूट पडा मै उसके स्तनो को चूसने लगा वह गरम हो गई। मैं उसके स्तनो को चुस रहा था वह मेरे लंड को दबा रही थी। वह बहुत गरम हो गई थी अब उसका हाथ मेरे लंड तक पहुंच चुका था वह मेरे लंड को सेहला रही थी। उसने मेरे कपडे निकलाने शुरु किए मैंने भी उसकी साडी निकल दी और उसकी पैंटी उतार दी अब वह भी पूरी नांगी हो चुकी थी और मैं भी नंगा हो गया था। वह मेरे लंड को चूसने लगी वह बडे अच्छे से मेरे लंड को चूस रही थी। उसने करीब 5 मिनट मेरे लंड को ऐसे ही मुह से चूसा उसके बाद अब मैं झड़ने वाला था। मैने उसके मुंह मे माल गिर दिया फिर वह मुझे किस करने लग गई।

उसने मेरे लंड को अच्छे से पूरा साफ़ कर दिया था। अब वह मेरे लंड को हाथ से ऊपर निचे करके सेहला कर खड़ा कर रही थी मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। मैने उसकी चूत को सहलाना शुरु किया मैंने धीरे से उसकी चूत मे ऊँगली डाली वह एक दम से उछल पडी वह बोलने लगी मुझे चोदो। मैं उसके ऊपर से लेटा था मैं अपने लंड को उसकी चूत पर रगडने लगा। जिससे वह आहे भरने लगी सिसकारियां लेने लगी। मैंने अब एक जोर दर धक्का मरा जिस से मेरा लंड आधा उसकी चूत में चला गया, और वह जोर से चिल्लाई और बोली तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है। मैं ऐसे ही उसके ऊपर से लेटा था मैं पूरे जोश मे था। मैने एक जोर से धक्का मारा और मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया वह मुझे बोली तुमने मेरी चूत फाड दी गरिमा बोल रही थी तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है।

मैने कहा अभी तो शुरू किया है अब वह थोड़ी शांत हो गई थी। वह अब आगे पीछे होने लगी मैं उसे जोर जोर से धक्के मारने लगा। मैन जोर जोर से उसे चोद रहा था वह सिसकिया ले रही थी। मैं जोश में आ गया था मैं उसे तेजी से चोदने लगा और उसके स्तन अब मेरी छाती के रगड रहे थे उसने मेरी कमर पर नाख़ून चूभा दिए थे। गरिमा बोल रही थी जोर से चोदो मुझे मै झडने वाली हू। यह सुन कर मैं उसे जोर जोर से धक्के मरने लगा वह झड चुकी थी, उसकी चूत के पानी से मेरा लंड गीला और गरम हो गया। मेरा लंड आराम से अब उसकी चूत के अंदर बहार हो रहा था। फिर मैंने उसकी चूतडो को ऊपर ऊठाया अब मेरा लंड उसकी चूत की जड़ तक जा रहा था मैंने उसे 10 मिनट तक चोदा फिर मेरा माल निकलने वाला था मेरा माल गिराने के बाद उसने मेरे लंड को मुंह मे ले लिया था और बहुत देर तक चूसा।


error: