चूत मिलने की खुशी


Antarvasna, kamukta: मैं जिस कॉलोनी में रहता हूं उसी कॉलोनी में मेरा दोस्त विराज भी रहता है विराज बड़ा ही  बिंदास है उसे कारों का बड़ा शौक है और उसके पापा उसके सारे शौक पूरा कर दिया करते हैं। विराज के पापा विराज को कभी भी किसी प्रकार की कोई कमी महसूस नहीं होने देते उसके पापा के ट्रांसपोर्ट का बिजनेस है। मैं जब विराज से एक दिन मिला तो विराज मुझे कहने लगा कि निखिल चलो कुछ दिन हम लोग कहीं टूर पर हो आते हैं मैंने उसे कहा लेकिन हम लोग कहां जाएंगे तो उसने मुझे कहा कि हम लोग कुछ दिनों के लिए गोवा चलते हैं। मैंने उसे कहा ठीक है हम लोग कुछ दिनों के लोगों हो आते हैं और हम लोग कुछ दिनों के लिए गोवा जाने का प्लान करने लगे। हम लोग गोवा चले गए थे जब हम लोग गोवा गए तो वहां पर हम लोगों ने सारी व्यवस्था पहले से ही करवा ली थी  हम लोग काफी दिनों तक गोवा में रहे और फिर वापस बेंगलुरु लौट आए। जब हम लोग बेंगलुरु लौटे तो मैं अपनी कॉलोनी में एक लड़की को अक्सर देखा करता था लेकिन मुझे उसके बारे में पता नहीं था कि आखिर वह है कौन? सुबह के वक्त वह अपने ऑफिस जाती थी और मैं उसे हर रोज आते जाते देखा करता था।

एक दिन मैंने उससे बात करने की सोची और मैंने उससे बात कर ली मैंने उससे हाथ मिलाते हुए अपना परिचय दिया तो उसने भी मुझे कहा मेरा नाम कावेरी है। कावेरी ने मुझे बताया कि वह किसी कंपनी में जॉब करती हैं और कुछ समय पहले ही यहां रहने के लिए आई है। मै जब भी अब कावेरी को मिलता तो उससे बात जरूर कर लिया करता लेकिन मुझे कावेरी के बारे में अब तक पूरी बात पता नहीं थी। कावेरी का डिवोर्स हो चुका था और यह बात जब उसने मुझे बताई तो मैंने कावेरी को कहा लेकिन तुम्हारी शादी कब हुई थी। कावेरी ने मुझे बताया कि उसकी शादी को हुए करीब 3 वर्ष हो चुके थे लेकिन उसके पति से उसकी बिल्कुल भी नहीं बनती थी इसलिए उसने अलग रहना ही ठीक समझा। उनके डिवोर्स का केस अभी भी कोर्ट में चल रहा था कावेरी से मेरी अच्छी दोस्ती होने लगी थी तो मैंने उसे विराज से भी मिलवा दिया। एक दिन विराज और मैं साथ में बैठे हुए थे तो विराज मुझे कहने लगा कि निखिल कहीं तुम कावेरी से प्यार तो नहीं करने लगे हो। मैंने उससे कहा कि नहीं ऐसा तो कुछ भी नहीं है बस कावेरी के साथ बात करना मुझे अच्छा लगता है और मैंने कभी भी इस बारे में सोचा नहीं है।

मैं और विराज एक साथ काफी देर तक बैठे रहे फिर मैंने विराज को कहा कि विराज मैं अभी घर चलता हूं। मैं घर चला आया था लेकिन विराज की बात उस दिन शायद मेरे दिल पर लग गई थी और मुझे भी यह लगने लगा था कि क्या मैं कावेरी से कुछ ज्यादा ही बातें करने लगा हूं और उसके बारे में कुछ ज्यादा ही सोचने लगा हूं। कावेरी कि मैं अक्सर मदद कर दिया करता लेकिन मुझे नहीं पता था कि मेरे दिल में उसके लिए क्या है बस मुझे उसकी मदद करना अच्छा लगता था। एक दिन कावेरी और मैं साथ में बैठे हुए थे तो कावेरी मुझसे कहने लगी कि निखिल मेरा डिवोर्स हो चुका है और मैं बहुत ज्यादा खुश हूं। मैंने कावेरी को कहा कि चलो यह तो बड़ी अच्छी बात है कि तुम्हें डिवोर्स मिल गया और आखिरकार अब तुम अपनी जिंदगी अच्छे से जी पाओगी। कावेरी ने मुझे अभी तक अपनी शादी से जुड़ी पूरी बातें बताई नहीं थी उसने सिर्फ मुझे यह बताया था कि उसके पति और उसके बीच में बिल्कुल भी अच्छे संबंध नहीं थे जिस वजह से वह लोग डिवोर्स लेना चाहते थे लेकिन उस दिन कावेरी ने मुझे अपने पति के बारे में बताया और कहा कि वह लोग एक साथ ही काम किया करते थे तो धीरे धीरे दोनों में नजदीकियां बढ़ती चली गई और नज़दीकियां इतनी ज्यादा बढ़ चुकी थी कि उन दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया। कावेरी ने मुझे बताया कि जब उसकी शादी हुई तो वह बहुत ही ज्यादा खुश थी लेकिन धीरे-धीरे उसके जीवन में सब कुछ बदलता चला गया। मैंने उसे कहा कि लेकिन तुम्हारे जीवन में ऐसा क्या हुआ कि जो सब कुछ बदलता चला गया तो कावेरी ने मुझे कहा कि मेरे पति का व्यवहार अचानक से मेरे प्रति बदलने लगा जो कि मुझे बिल्कुल भी पसंद नहीं था और मैंने उन्हें कहा कि तुम मेरे साथ ऐसा व्यवहार नहीं कर सकते। वह मेरे साथ झगड़ा करते रहते थे झगड़ने के बाद भी ना जाने उनके दिमाग में क्या कुछ चल रहा था लेकिन अभी तक कुछ भी ठीक नहीं हुआ था। मैंने कावेरी से कहा अब तुम इस बारे में भूल जाओ और अपनी बाकी की ज़िंदगी के बारे में सोचो तो कावेरी कहने लगी हां निखिल तुम बिल्कुल ठीक कह रही हो अब मुझे अपने आगे के बारे में सोचना चाहिए। कावेरी के माता-पिता चेन्नई में रहते हैं।

कावेरी को जब भी मेरी जरूरत होती तो मैं उसकी मदद कर दिया करता था। एक दिन कावेरी से मैंने कहा कि चलो आज कहीं घूम आते हैं और उस दिन मैं और कावेरी लॉन्ग ड्राइव पर निकल पड़े मुझे नहीं पता था कि उस दिन कावेरी और मेरे बीच किस हो जाएगा। जब हम दोनों के बीच किस हो गया तो शायद हम दोनों एक दूसरे के साथ सेक्स करने के लिए तड़प रहे थे कावेरी ने उस दिन मुझे अपने साथ चलने के लिए कहा और मैं उसके घर पर चला गया। यह पहला ही मौका था जब मैं कावेरी के घर पर गया था लेकिन मुझे बड़ा ही अच्छा लग रहा था जब मैं कावेरी के घर पर गया। मैंने उसके होंठों को चूमना शुरू किया मैं जब उसके होठों को चूम रहा था तो मुझे बड़ा ही मजा आने लगा था और उसके होठों से मैंने पूरी तरीके से खून बाहर निकाल कर रख दिया था अब मैं उसके कपडे उतारकर उसके स्तनों को चूसने लगा तो मुझे मजा आने लगा जब मैं उसके स्तनों को चूस रहा था तो मेरे अंदर की गर्मी बढ़ती जा रही थी।

मैंने उसे कहा मेरे अंदर की गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ चुकी है तो वह मुझे कहने लगी तुम अब मेरी चूत के अंदर अपनी लंड को डाल दो मैंने भी उसे कहा चलो मैं भी तुम्हारी चूत के अंदर लंड को घुसा देता हूं और मैंने उसकी योनि की तरफ देखा तो उसकी योनि पर एक भी बाल नहीं था उसकी चूत को मेरा चाटने का मन हुआ और उसकी चूत को मैं चाटने लगा। उसकी चूत को चाटकर मुझे मजा आ रहा था क्योंकि कावेरी ने अपने कपड़े उतार दिए थे इसलिए अब मुझे उसकी चूत को चाटने में मजा आने लगा था और उसकी चूत को मैंने बहुत देर तक चाटा। मेरे अंदर की गर्मी पूरी तरीके से बढ़ने लगी थी और मैंने जैसे ही उसकी योनि पर लंड को लगाया तो मुझे अच्छा लगने लगा  मैंने उसकी चूत के अंदर लंड को डालने का फैसला कर लिया था। मैंने एक ही झटके में लंड को घुसा दिया वह बहुत ज्यादा तड़पने लगी थी और मैं उसके होठों को चूमने लगा था मैं उसके होठों को चूमता तो मुझे मजा आता और उसे भी बड़ा अच्छा लग रहा था। मैं अब उसके स्तनों को भी अपने हाथों से दबाने लगा था मैं जब अपने लंड को उसकी चूत के अंदर बाहर करता तो मुझे बहुत ही अच्छा लगता और उसे भी बड़ा मजा आ रहा था। मैं उसे ऐसे ही धक्के दिए जा रहा था उसके अंदर की गर्मी तो बढ ही चुकी थी और मेरे अंदर की आग पूरी तरीके से बढ़ चुकी थी मैंने उसे कहा मुझे तुम्हारी चूत मारने में बड़ा मजा आ रहा है तो वह मुझे कहने लगी मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा है तुम ऐसे ही बस मुझे धक्के मारते रहो। मैंने उसे कहा क्या मैं तुम्हें डॉगी स्टाइल पोजीशन मे चोद सकता हूं तो वह मुझे कहने लगी क्यों नहीं और मैं उसे बड़ी तेज गति से चोदने लगा जब मैं उसे तेज गति से चोद रहा था तो मैंने अपने वीर्य को उसकी चूत में गिरा दिया।

अब मेरा वीर्य उसकी योनि में गिर चुका था और मैंने उसे डॉगी स्टाइल पोजीशन में बनाते हुए कहा कि क्या तुम्हारी गर्मी बढ चुकी है तो उसने मुझसे कहा हां मैंने अपने लंड पर नारियल का तेल लगा लिया और उस तेल को लगाने के बाद जब मैंने उसकी चूत पर अपने लंड को सटाया तो मुझे बड़ा अच्छा महसूस हो रहा था उसकी चूत मारकर उसकी गर्मी को मैने बढा दिया था। अब मैं धीरे-धीरे अपने लंड को उसकी योनि के अंदर डालता जा रहा था एक समय बाद मेरा लंड उसकी योनि के अंदर तक चला गया और मुझे बड़ा अच्छा लगने लगा था। मैं उसे बड़े अच्छे तरीके से चोद रहा था वह मुझसे चूतडो को टक्करा रही थी उससे उसको बड़ा ही मजा आ रहा था और वह मुझे कहने लगी कि मुझे बहुत अच्छा लग रहा है। अब मैं उसे बड़ी तेजी से चोद रहा था उसकी चूतड़ों का रंग लाल होने लगा था लेकिन वह अपनी चूतड़ों को मुझसे मिलाए जा रही थी। मैंने उसे कहा तुम्हारी चूत की गर्मी को मैं बर्दाश्त नहीं कर पा रहा हूं तो वह सिसकारियां लेने लगी थी उसकी सिसकारिया कुछ ज्यादा ही बढ़ने लगी थी जिससे कि मेरे अंदर की आग और भी अधिक बढ़ने लगी।

मैंने उसे कहा मेरा माल गिरने ही वाला है और मेरा वीर्य जैसे ही बाहर आया तो मुझे बहुत ही मजा आया। मेरे अंदर की आग बुझ चुकी थी मैंने उसे कहा बहुत ही अच्छा लग रहा है मेरे अंदर कि आग पूरी तरीके से बुझ चुकी है मैं बहुत ही ज्यादा खुश हो गया था और वह भी बड़ी खुश थी। कावेरी ने मेरे लंड को चूस कर मेरी गर्मी को दोबारा से बढ़ा दिया उसकी इच्छा भी पूरी नहीं हुई थी और उसने मेरे लंड से पानी बाहर निकल दिया था वह चाहती थी कि मैं उसे दोबारा से चोदूं अब उसने मेरे लंड को खड़ा कर के अपनी चूत में लेने के बात कहीं तो मैंने उसकी चूत में लंड को घुसा दिया और अपने लंड को उसकी चूत में घुसाते ही मैं उसे तब तक चोदता रहा जब तक उसकी इच्छा पूरी नहीं हो गई और वह मुझे कहने लगी कि आज तो मुझे मजा ही आ गया। मुझे भी बहुत अच्छा लगा था जब मैं उसे चोद रहा था और उसकी इच्छा को पूरा किया था।


error: