चूत की अन्तर्वासना में जलती डॉक्टर और नर्स


हेल्लो मेरे प्यारे प्यारे लंड के मालिकों | उम्मीद तो यही है कि आप सब अच्छे होंगे और मुझे ये भी यकीन है कि मुझे आप सब का प्यार बराबर मिलता रहेगा | मिलता रहेगा कि नहीं ? जैसे ही मैंने अपना होश संभाला बीमार पड़ने के बाद मैंने सोचा आज आपको अपनी कहानी बता देता हूँ | दोस्तों ये बिलकुल असली कहानी है और ये मैंने हॉस्पिटल में ही लिखी है | मैंने ये किसी को बताया नहीं क्यूँ की मुझे सबसे छुप के करना था सब | अब चुदाई खुले में कौन करता है और वो भी हॉस्पिटल में | मैंने कई बार देखा है जो नर्स होती हैं वो बहुत सामान होती हैं पर यहाँ तो डॉक्टर भी सामान थी | मैंने कभी सोचा नहीं था हॉस्पिटल में भर्ती होना इतना मजेदार रहेगा | मैंने ऐसी चुदाई मचाई कि क्या हॉस्पिटल और क्या चकला सब एक बराबर कर दिया मैंने और तो और नर्स भी मेरे लंड की दीवानी हो गयी और मुझसे डॉक्टर को भी चुदवा दिया | डॉक्टर तो करीब 48 साल की रही होगी पर थी बड़ी सेक्सी | और जो नर्स होती है वो 25 से 26 साल की होती हैं | इसलिए मुझे मस्त मज़ा आया चुदाई करने के लिए |

अब मेरी चुदाई की कहानी का आरम्भ इसलिए अब आप सब आराम से बैठ के मेरे चुदाई के कारनामे सुनो और अपना लंड हिलाके उसमे से मुठ निकाल दो | तो हुआ ये कि एक दिन मैंने खाया खाना और उसके बाद मैंने पी दारु तो मुझे नशा कम हुआ और मैं हमेशा यही करता था क्यूंकि मुझे ऐसे ही पीना पसंद है | इससे सेहत ख़राब नहीं होती पर मैंने सोचा कि चलो इस बार मैं थोडा ज्यादा खाना खाऊंगा क्यूंकि मुझे ज्यादा दारु पीनी थी | पर मेरा ये सोचना गलत हो गया क्यूंकि मुझे पता ही नहीं था कि मुझे ऐसा कुछ हो जाएगा जिससे मैं सीधा हॉस्पिटल मैं भर्ती हो जाऊंगा | यही हुआ मेरे साथ और मैंने दारु पीने से पहले खूब सारा खाना खा लिया | जब मैंने पीना शुरू किया उसके बाद मुझे नशा अच्छा ख़ासा हो गया और मैं अपने बिस्तर पे जाके लेट गया और सोचने लगा किस्से बात करूँ क्यूंकि नशे में मस्त बात होती है | मैंने लगा अपने दोस्त नवल को फ़ोन और उसको गचरने लगा | थोड़ी देर बाद मुझे ऐसा लगा कि मेरा सर घूम रहा है और मुझे उलटी आ रही है |

मैंने फ़ोन रखा और बाथरूम में जैसे तैसे गया लहराते हुए | वह मुझे उलटी हो गयी तो मुझे अच्छा लगने लगा क्यूंकि नशा पूरा उतर गया | पर मुझे नहीं पता था कि ये तो शुरुआत है उसके बाद मुझे और उलटी होने लगी | मैंने सोचा थोडा पानी पी लेता हूँ मैंने जैसे ही पानी पिया वो भी बाहर हो गया | अब मैं बिलकुल कमज़ोर हो गया और वहीँ नीचे गिर गया | मेरा भजी उठा होगा रात में तो उसने मुझे वह गिरा हुआ देखा और तुरंत मम्मी पापा को उठाया और मुझे अस्पताल में भरती करवा दिया | अब मुझे जब होश आया तो मैंने देखा मैं निक्कर में लेता हुआ हूँ और मैंने अन्दर चड्डी भी नहीं पहनी थी | मैंने जल्दी से मम्मी से कहा मामी मेरी जीन्स कहाँ है | उतने में नर्स आ गयी और उसने मेरे लंड को देख लिया और कहा इसको कुछ पहनाओ | मैंने भी मन में कहा मादरचोद अभी मेरा लंड खड़ा होता तो चोसने लगती बहनचोद | वैसे वो नर्स माल थी और उसने कई बार मेरे लंड को देखा | मुझे भी मज़ा आ रहा था मैं तो जानबूझ के अपना लंड बाहर निकाल रहा था |

उसके बाद वो माल डॉक्टर आई और उसने मुझसे कहा चलो बताओ कैसा लग रहा है | मैंने कहा कमजोरी है फिर उसने कहा इनको प्राइवेट वार्ड में ले जाओ | सरकारी अस्पताल का प्राइवेट वार्ड था वो और वह बस दो लो जा सकते थे | मैंने देखा एक बन्दे की छुट्टी हो गयी है और वो जा रहा है | मैंने मन में सोचा बस ये पूरा कमरा अपना और शाम तक मैं आराम से चलने फिरने लगा | वो नर्स मुझे बोतल लगाने आई और मैंने कहा प्लीज आराम से लगाना बहुत दर्द होता है | जैसे ही सुई चुभी मैंने उसको एक हाथ से कास के पकड़ लिया | उसने मेरे सर पे हाथ फेरा और कहा बस अब कुछ नहीं होगा | वो वहीँ बैठ गयी मेरे पास और मेरे बारे में पूछने लगी और मेरी नज़र एकदम से उसके चेहरे पे गयी तो मैंने देखा हूर की परी थी वो | मैंने उससे पुछा आपको काम नहीं है तब उसने बताया कि वो ईसिस वार्ड की ड्यूटी करती है तो उसे यही रहना पड़ेगा | मैंने चलो अच्छा है मुझे भी कोई मिल जाएगा बात करने के लिए | वो हसने लगी और हमारी खूब बातें होने लगी | मैंने उसके बारे में सब जान लिया और उससे ये भी पुछा आप मुझे वहाँ नीचे क्या कह रही थी | उसने कहा वो अपने अंडरवियर नहीं पहना था न इसलिए | मैंने कहा अच्छा पर आप बार बार वहीँ देख रही थी तो वो मुस्कुरा के चली गयी वहाँ से | उसके बाद रात होने लगी तो वो भी वहाँ आ गयी और कहने लगी आप से बात करने में मज़ा आया आज में रात में भी यही हूँ | मैंने कहा पर आज भी अंडरवियर नहीं है मेरे पास तो वो हसने लगी |

अब उससे मैंने बात करने शुरू किया तो मुझे उसके दूध के निप्पल दिखने लगे टी शर्ट के ऊपर से ही | मैंने उससे पुछा आप भी अंडरवियर नहीं पहनते क्या ? तो वो शर्मा गयी और कहा आज बस नहीं है और आप भी न बस वही देखिये | मेरा लंड खड़ा हो गया था तो मैंने कहा हाँ जी क्या करे अब आप यहाँ देखिये | मेरा बड़ा लंड उसके सामने था तब उसने कहा इतना बड़ा | मैंने कहा बस ये तो कुदरत का करिश्मा है | उसने मुझसे कहा क्या मैं इस करिश्मे को छु के देख सकती हूँ ? मैंने कहा देखिये इसके साथ कुछ भी करिए पर इसको अकेला मत छोडिये | अब वो मेरे पास आई और अपने नरम हाथों में मेरा कड़क लंड लेके हिलाने लगी और मुझे प्यार से देखने लगी | मैंने कहा कितनी बार ऐसा किया है आपने तब उसने बाताया आपके अलावा तीन बार और किया है | वो धीरे धीरे लंड को हिलाते हुए अपने मुह की तरफ ले गयी और मेरा सुपाडा मुह में भर लिया | मैं आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगा और वो मेरे लंड को और अन्दर तक लेती गयी |

मुझे और ज्यादा मज़ा आने लगा और मुझे इतना अच्छा लग रहा था कि मैंने 5 मिनट बाद उसके मुह में ही मुठ मार दिया और वो पीने लगी मेरे मुठ को | मैंने अपने हाथ उसके बाड़े गोल दूध पे रखे और उनको दबाने लगा | वो मेरे ऊपर आ गयी और मेरे मुह में अपने दूध को भरने लगी | मैंने भी उसकी निप्पल को कटा और चूसने लगा | थोड़ी देर बाद वो भी आंहे भरने लगी | वो भी आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी | फिर वो 69 की पोजीशन में आई और मैं उसकी चूत चाटने लगा और मेरा लंड चूसने लगी | हम दोनों आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रहे थे |

उसके बाद वो पलटी और मेरे लंड को सीधा खड़ा करके अपनी चूत में डाल दिया और उचकने लगी उसपे | मैंने उसके दूध पकड़ के मसलने लगा और वो ऊपर नीचे हो रही थी और मस्त चुदवा रही थी | आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः की आवाज़ दोनों तरफ से आ रही थी तबी डॉक्टर आ गयी | वो भी मेरे पास आई और किस करने लगी और अपने दूध पिलाने लगी मुझे | मैं भी आराम से पी रहा था और उसकी चूत में ऊँगली कर रहा था | डॉक्टर भी आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी | मैंने बारी बारी दोनों को चोदा और उनके बदन से अपनी भूंख मिटाई | तीन दिन तक हमारा ये खेल बहुत चला फिर मुझे छुट्टी मिल गयी और मैं घर आ गया |


error: