अर्पिता के साथ सेक्स के मजे


Antarvasna, kamukta: घर में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा था क्योंकि ना तो पापा की तबीयत ठीक थी और ना ही घर की आर्थिक स्थिति ठीक थी परंतु फिर भी मैंने कभी जिंदगी में हार नहीं मानी और मैं सब कुछ ठीक करने की कोशिश करने लगा था। अब सब कुछ ठीक तो होने लगा था लेकिन मुझे अपने घर से दूर नौकरी करनी पड़ी। मैं दिल्ली में नौकरी कर रहा हूं और मेरी जिंदगी मैं जब से पूजा ने कदम रखा तब से मेरी जिंदगी पूरी तरीके से बदल गई। पूजा और मेरी मुलाकात मेरे ऑफिस के समय ही हुई। पूजा भी अपनी परेशानियों से जूझ रही थी पूजा का कुछ समय पहले ही डिवोर्स हुआ था और जब हम दोनों एक दूसरे से ऑफिस में मिले तो हम दोनों अब एक दूसरे से बातें करने लगे थे। पहले तो हम दोनों के बीच सिर्फ दोस्ती ही थी लेकिन अब यह दोस्ती प्यार में बदलने लगी थी और मैं पूजा को प्यार करने लगा। मुझे पूजा का साथ काफी अच्छा लगता है और जब भी हम दोनों एक दूसरे के साथ में होते तो हम दोनों को बहुत ही अच्छा लगता।

मैं कोशिश करता कि पूजा और मैं साथ में ज्यादा समय बिताया करे। पूजा के डिवोर्स के बारे में मुझे मालूम था इसलिए मुझे उससे कोई भी ऐतराज नहीं था लेकिन मुझे जब भी पूजा की जरूरत होती तो वह हमेशा ही मेरे साथ खड़ी नजर आती। मुझे इसी बात की खुशी है कि पूजा मुझे बहुत ही अच्छे से समझती है इसलिए मैं चाहता था कि मैं पूजा से शादी कर लूँ। मैंने जब अपने पापा और मम्मी से इस बारे में बात की तो उन्हें हमारी शादी से कोई एतराज नहीं था और ना ही पूजा के परिवार को कोई ऐतराज था इसलिए हम दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया था। हम दोनों ने कोर्ट मैरिज की, हम दोनों की कोर्ट मैरिज हो जाने के बाद हम दोनों साथ में रहने लगे मैं दिल्ली में पूजा के साथ बहुत ही खुश हूं लेकिन आप मुझे लगने लगा था कि मुझे एक घर खरीद लेना चाहिए।

मेरी जितनी भी सेविंग थी उससे मैंने घर खरीदने का फैसला कर लिया और फिर मैंने एक घर खरीद लिया। हालांकि उसमें मेरी मदद पूजा ने ही की और हम लोगों ने मिलकर एक घर खरीद लिया। मैं चाहता था कि पापा और मम्मी मेरे साथ ही रहे और मैंने उन्हें अपने साथ दिल्ली में हीं बुला लिया। वह लोग मेरे साथ दिल्ली में रहने लगे और अब हम लोग बहुत ही खुश हैं मेरा छोटा सा परिवार बहुत खुश है। पूजा मेरी जिंदगी में आई तो उसने मेरा हमेशा ही साथ दिया है और मुझे बहुत ही खुशी है। पूजा को भी बहुत ज्यादा अच्छा लगता है कि वह मेरे साथ रिलेशन में है। हम दोनों का शादीशुदा जीवन तो अच्छे से चल ही रहा है और मेरा ऑफिस में प्रमोशन भी हो चुका है। मेरा ऑफिस में प्रमोशन हुआ तो मैं अब अपने काम में बिजी रहने लगा था, मैं अपने काम में बहुत ज्यादा बिजी रहने लगा था जिस वजह से मुझे बिल्कुल भी समय नहीं मिल पाता था। एक दिन जब मैं घर पर था तो उसने मुझे कहा कि आजकल आप कुछ ज्यादा ही बिजी हैं। मैंने पूजा को कहा कि तुम्हें तो मालूम है कि जबसे मेरा प्रमोशन हुआ है तब से मुझे बिल्कुल भी समय नहीं मिल पाता है। पूजा ने जॉब छोड़ दी है और वह घर पर ही पापा मम्मी की देखभाल करती है। पूजा घर में अकेले बोर हो जाया करती है इसलिए उसने मुझे कहा कि मैं चाहती हूं कि मैं भी जॉब करूं।

मैंने पूजा को कहा कि मैंने तो तुम्हें हमेशा से ही कहा है कि यदि तुम्हे नौकरी करनी चाहिए तो तुम नौकरी कर लो हम दोनों एक दूसरे के साथ समय बिताना चाहते थे मैं काफी दिनों से पूजा के साथ समय नहीं बिता पाया था लेकिन उस दिन मुझे लगा कि मुझे पूजा को थोड़ा टाइम देना चाहिए। मैंने अपने ऑफिस से छुट्टी ले ली। मैं चाहता था कि मैं पूजा को थोड़ा समय देने की कोशिश करूं इसलिए मैंने ऑफिस से छुट्टी ले ली थी। उस दिन मैंने पूजा के साथ मे घूमने का फैसला किया। हम दोनों घूमने के लिए मनाली जाना चाहते थे और मैंने पूजा से कहा कि मैंने मनाली घूमने का प्लान बनाया है तो पूजा भी काफी खुश थी। हम दोनों कुछ दिनों के लिए मनाली चले गए और जब हम लोग मनाली गए तो यह हम दोनों के लिए बहुत ही अच्छा था। शादी के बाद हम दोनों का यह पहला टूर था लेकिन हम दोनों काफी खुश थे कि हम दोनों ने साथ में अच्छा समय बिताया। मैं पूजा के साथ बहुत ही ज्यादा खुश हूं और वह मेरा काफी अच्छे से ध्यान रखती है। जब हम लोग मनाली से वापस लौटे तो उसके बाद मैं अपने ऑफिस जाने लगा था और पूजा ने भी एक कंपनी में इंटरव्यू दिया जिसके बाद वह जॉब करने लगी थी।

पूजा नौकरी करने लगी थी और वह बहुत ही खुश थी। हालांकि हम दोनों एक दूसरे को समय कम ही दिया करते थे लेकिन फिर भी हम दोनों एक दूसरे को अच्छे से समझते। हम दोनों के बीच की बॉन्डिंग बहुत ही अच्छी है जिस वजह से हम दोनों का शादीशुदा जीवन बहुत ही अच्छे से चल रहा है और मैं काफी खुश हूं। जब भी मेरे ऑफिस की छुट्टी होती तो मैं पूजा के साथ में समय बिताने की कोशिश किया करता हूं और हम दोनों साथ में अच्छा समय बिताते। एक दिन पूजा ने मुझे बताया कि आज उसकी बहन आने वाली है तो मैंने पूजा से कहा कि लेकिन वह कब आएगी क्योकि  मुझे ऑफिस से आने में थोड़ा देर हो जाएगी। पूजा कहने लगी कि वह आज रात को हमारे घर पर ही रुकने वाली है मैंने पूजा से कहा कि यह तो काफी अच्छा है। जब उस दिन शाम के वक्त मैं ऑफिस से घर लौटा तो पूजा की बहन अर्पिता उस दिन हमारे घर पर आई हुई थी और वह उस दिन हमारे घर पर ही रुकी। अगले दिन अर्पिता को छोड़ने के लिए मैं ही गया था। अर्पिता की नौकरी एक बड़ी कंपनी में लग चुकी है और वह अपनी जॉब के लिए अमेरिका जाने वाली है। जब अर्पिता अमेरिका गई तो पूजा बहुत ही खुश थी।

अर्पिता की नौकरी अच्छी कंपनी में लग चुकी है और वह अमेरिका में ही जॉब करने लगी। अर्पिता जब से अमेरिका गई उसके बाद से वह घर नहीं लौटी लेकिन उससे मेंरी बात होती रहती और वह अपनी जॉब से बहुत ही ज्यादा खुश है। पूजा के साथ मैं जब भी होता हूं तो मुझे बहुत ही अच्छा लगता है। हम दोनों एक दूसरे को समझने की कोशिश करते और जब भी मुझे लगता कि मुझे पूजा के साथ में टाइम स्पेंड करना चाहिए तो मैं पूरी कोशिश करता हूं कि मैं पूजा के साथ में समय बिताऊँ। पूजा और मैं एक दिन अपने दोस्त के घर डिनर के लिए गए वहां से हम लोग रात को लौटे। वहां से लौटने में काफी देर हो गई थी उस दिन मैंने पूजा से कहा आज मेरा तुम्हारे साथ सेक्स करने का मन है। पूजा भी तड़प रही थी और मैं भी तड़प रहा था। मैंने पूजा के होंठो को चूमना शुरू किया। पूजा के गुलाबी होठों को चूम कर मेरी गर्मी बढ़ती ही जा रही थी और मैं खुश हो चुका था।

मैंने अर्पिता के सामने अपने लंड को किया तो उसने उसे अपने मुंह में ले लिया और जिस तरीके से वह मेरे लंड को सकिंग करने लगी उस से मुझे मजा आने लगा था और मुझे भी बहुत ज्यादा मजा आ रहा था। हम दोनों एक दूसरे की गर्मी को बढ़ाते जा रहे थे। हम दोनों की गर्मी पूरी तरीके से बढ़ने लगी थी। मैंने अर्पिता से कहा मैं बिल्कुल भी रह नहीं पा रहा हूं। अर्पिता मुझे कहने लगी मुझसे भी नहीं रहा जा रहा है मैंने जब अर्पिता की चूत मे अपने मोटे लंड को सटाया तो उसकी चूत से पानी निकल रहा था। अर्पिता की चूत मेरे लंड को लेने के लिए तैयार थी मैंने अर्पिता की चूत पर अपने लंड को रगडना शुरू किया मुझे मजा आने लगा था और वह खुश होती जा रही थी। अब हम दोनों पूरी तरीके से गरम हो चुके थे। मैंने अर्पिता की चूत कपर अपने लंड को अंदर बाहर करना शुरू कर दिया था मेरा लंड बड़ी आसानी से उसकी चूत के अंदर बाहर होता जा रहा था जिससे कि उसकी सिसकारियां बढती जा रही थी। वह बहुत ज्यादा गर्म हो रही थी वह मुझे कहने लगी मेरी गर्मी बहुत ज्यादा बढती जा रही है अब हम दोनों पूरी तरीके से गर्म हो चुके थे। जैसे ही मैंने अपने वीर्य की पिचकारी को उसकी चूत में गिराया तो वह बहुत ज्यादा खुश थी और उसने मेरे लंड को दोबारा से चूस कर लंड को दोबारा से खड़ा कर दिया था। मैंने अर्पिता से कहा मैं बिल्कुल भी रह नहीं पाऊंगा। अर्पिता कहने लगी मुझसे भी नहीं रहा जा है।

हम दोनो ने एक दूसरे के साथ सेक्स करने का फैसला किया और मैंने अर्पिता की चूत के अंदर अपने लंड को डाला तो मेरा लंड उसकी चूत मे जा चुका था। जब उसकी चूत मे मेरा लंड गया तो वह भी मुझसे अपनी चूतडो को मिलाए जा रही थी। मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था जब वह मुझसे अपनी चूतडो को मिला रही थी और मेरी गर्मी को बढाए जा रही थी। हम दोनों बहुत ज्यादा गरम हो चुके थे लेकिन जब मैंने अपने वीर्य को अर्पिता की चूत में गिराया तो वह खुश हो गई और मुझे बोली मेरी गर्मी को तुमने शांत कर दिया है। हम दोनों एक दूसरे की बाहों में लेटे हुए थे उसने मेरे लंड को अपने हाथों में लिया हुआ था और मेरे लंड से अभी भी वीर्य बाहर की तरफ को टपक रहा था।

मैंने जब अर्पिता की चूत की तरफ देखा तो उसकी चूत से अभी भी पानी बाहर की तरफ निकल रहा था मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा था हम दोनों ने उस दिन एक दूसरे के साथ सेक्स के मजे लिए थे। मैं जब भी अर्पिता के साथ सेक्स के मज़े लेता हूं तो मुझे बहुत ही अच्छा लगता है और वह मुझे पूरी तरीके से संतुष्ट कर देती है। अर्पिता और मैं एक दूसरे के साथ बहुत ज्यादा खुश है और हम दोनों एक दूसरे के साथ सेक्स करते हैं तो हम लोगों को बहुत ही अच्छा लगता है। अर्पिता मेरे लंड को हमेशा अपनी चूत में लेने के लिए तैयार रहती है।  वह जब भी मेरे लंड को अपनी चूत में लेती है तो वह बहुत ज्यादा खुश रहती है और मुझे भी बहुत अच्छा लगता है जब भी वह मेरे साथ सेक्स के मज़े लेती है और मेरी गर्मी को पूरी तरीके से शांत कर देती है।