आंखो के सामने गोरा बदन


Antarvasna, kamukta: मैंने पायल को मैसेज करते हुए कहा कि तुम मुझे कॉलेज के बाहर मिलना पायल ने मेरे मैसेज का जवाब दिया और कहा ठीक है मैं तुम्हें कॉलेज के बाहर मिलती हूं। मैं अपनी क्लास से बाहर निकला और गेट के बाहर ही मैं पायल का इंतजार करने लगा लेकिन अभी तक पायल आई नहीं थी जब पायल आई तो वह मुझे कहने लगी कि आकाश क्या कोई जरूरी काम था। मैंने उसे कहा हां मुझे एक जरूरी काम था लेकिन तुम आजकल मुझसे मिल ही नहीं रही हो पायल मुझे कहने लगी कि आकाश जब से मेरी दीदी ने हम दोनों को साथ में देखा है तब से मुझे बहुत डर लग रहा है। पायल ने मुझे बताया कि उसके पापा ने उसे घर पर बहुत डांटा था और इस बात से पायल बहुत डरी हुई थी मैंने पायल को कहा पायल तुम्हें डरने की आवश्यकता नहीं है। पायल मुझे कहने लगी कि आकाश तुम्हें नहीं पता मेरे पिताजी कितने सख्त मिजाज हैं और यदि उन्होंने हमें कभी साथ में देख लिया तो शायद उसका अंजाम मुझे भी नहीं पता।

मैंने पायल को कहा लेकिन पायल यदि तुम ऐसे ही डरती रही तो हम दोनों का रिश्ता कैसे आगे बढ़ेगा वह मुझे कहने लगी कि आकाश मैं तुमसे प्यार करती हूं और तुम्हारे साथ मैं अपने रिश्ते को आगे भी बढ़ाना चाहती हूं लेकिन मैं डरती भी हूं कि कहीं यह बात पापा को पता चली तो वह तुम्हें कोई नुकसान ना पहुंचाएं। मैंने पायल को कहा पायल तुम्हें डरने की आवश्यकता नहीं है पायल मुझे कहने लगी कि आकाश तुम तो जानते ही हो कि पापा पुलिस में है और किस प्रकार से उनका गुस्सा है। मैंने पायल को कहा पायल लेकिन हम लोग आपस में बात तो कर सकते हैं तुम तो मुझसे बात भी नहीं कर रही हो। पायल कहने लगी अच्छा बाबा मैं तुमसे बात करूंगी लेकिन तुम बार-बार मुझे फोन मत किया करो घर में सब लोग होते हैं और यदि किसी ने मेरा फोन देख लिया तो वह भी ठीक नहीं है मैंने पायल को कहा ठीक है पायल मैं तुम्हें बार-बार फोन नहीं किया करूंगा। हम दोनो एक दूसरे से बड़े छुपकर मिला करते क्योंकि पायल हमारी ही कॉलोनी में रहती थी इस वजह से मुझे भी डर था कि कहीं उसके पापा ने हम दोनों को देख लिया तो शायद यह ठीक नहीं होगा और पायल से मैं बहुत प्यार भी तो करता हूं।

पायल इस बात को अच्छे से जानती है कि मैं उससे बहुत ज्यादा प्यार करता हूं इसीलिए तो उसने हमेशा ही मेरा साथ दिया है हम दोनों एक ही क्लास में पढ़ते हैं। पायल को मैं काफी समय से जानता हूं जब पहली बार मैंने कॉलेज में पायल को अपने दिल की बात कही तो पायल ने पहले मेरे प्रपोजल को ठुकरा दिया था लेकिन बाद में उसे स्वीकार करना पड़ा। पायल और मैं एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं लेकिन हम दोनों की मजबूरियां हैं जो कि हम दोनों को मिलने नहीं देती। पायल की मजबूरी यह है कि यदि उसके पिताजी को इस बारे में पता चला तो उसके पिताजी उसे कॉलेज भी नहीं आने देंगे और मेरी मजबूरी यह है कि मुझे अपने घर की जिम्मेदारियों को देखना है। मेरे पिताजी जो कि शराब के नशे में चूर रहते हैं जिस वजह से घर का माहौल काफी खराब रहता है और कई बार घर में झगड़े भी हो जाते हैं मेरी मां इस बात से बहुत परेशान हैं घर में मैं ही बड़ा हूं इसलिए मुझे ही घर की जिम्मेदारी संभालनी है। मैं अपना कॉलेज खत्म होने के बाद कोई नौकरी करना चाहता था लेकिन अभी मेरा कॉलेज खत्म नहीं हुआ था यह मेरे कॉलेज का आखरी ही वर्ष था और मैं चाहता था कि जल्दी से मैं नौकरी कर के अपनी जिम्मेदारियों को निभा सकूं। पिताजी ने हमेशा अपनी जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ लिया था क्योंकि उनकी शराब की लत की वजह से वह काम पर भी नहीं जाते जिस वजह से मां बहुत ज्यादा परेशान रहने लगी थी। मां हमेशा ही मुझसे कहती की बेटा तुम अपनी पढ़ाई पूरी कर के जल्दी से कुछ कर लो मैं अब बहुत ज्यादा परेशान रहने लगी हूं। मुझे भी लगने लगा था कि मां बहुत परेशान रहती है और मुझे भी जल्द से जल्द कुछ करना था परंतु कॉलेज की पढ़ाई खत्म नहीं हुई थी। पायल ने हमेशा ही मेरा साथ दिया और वह मुझे हमेशा ही समझाती कि तुम अपने जीवन में जरूर कुछ अच्छा कर लोगे लेकिन हमारे घर की स्थिति दिन-ब-दिन खराब होती जा रही थी मां की तबीयत भी काफी दिनों से खराब थी और उसी बीच मेरे एग्जाम भी नजदीक आ गए थे। मां काफी दिनों से काम पर नहीं जा पा रही थी इसलिए घर में राशन भी खत्म होने लगी थी मैंने मां से कहा कि मां आप काफी परेशान नजर आ रही हैं तो मां ने मुझे बताया कि बेटा घर में राशन भी खत्म होने वाली है और मेरे पास पैसे भी नहीं बचे हैं।

मैंने मां से कहा मां मैं कोशिश करता हूं कि कहीं से कुछ पैसों का बंदोबस्त हो जाए मां ने मुझे कहा लेकिन आकाश बेटा तुम कहां से पैसों को बंदोबस्त करोगे मैंने मां से कहा मां मैं कोशिश करता हूं कि कहीं से कुछ बंदोबस्त हो सके। मैं बहुत ज्यादा परेशान था और उसी वक्त मेरे एग्जाम भी चल रहे थे इससे मेरे एग्जाम पर भी असर पड़ रहा था मेरे एग्जाम खत्म होने वाले थे लेकिन अभी तक पैसों का कोई बंदोबस्त नहीं हो पाया था मैं काफी ज्यादा परेशान था। पायल ने मुझसे मेरी परेशानी का कारण पूछा तो मैंने पायल को अपनी परेशानी का कारण नहीं बताया परंतु पायल ने जब मुझे कहा कि तुम्हें मुझे बताना ही पड़ेगा की आखिरकार क्या बात है जो तुम इतना परेशान नजर आ रहे हो। फिर मुझे पायल को सब कुछ बताना पड़ा और मैंने पायल को इस बारे में बताया कि हमारे पास पैसे नहीं हैं और घर में स्थिति बिल्कुल खराब हो चुकी है। पायल ने मुझे कहा कि तुम इतने दिनों से क्या मुझे यह बात नहीं बता सकते थे मैंने पायल को कहा लेकिन पायल तुम भी मेरी क्या मदद करती।

पायल मुझे कहने लगी कि मैं हर महीने अपने पास कुछ पैसे जमा कर लिया करती हूं और पायल ने अगले दिन मुझे वह पैसे ला कर दिए मैंने पायल को पहले तो मना किया लेकिन पायल ने मुझे कहा कि तुम्हें यह पैसे रखने ही पड़ेंगे। पायल की इज्जत मेरी नजरों में अब और भी बढ़ चुकी थी जिस प्रकार से पायल ने मेरी मदद की उससे कुछ समय तक तो मेरे घर का खर्चा चल पाया लेकिन यह अस्थाई रूप से था मैं चाहता था कि मैं नौकरी करने लगूं। मेरे कॉलेज की पढ़ाई भी अब पूरी होने लगी थी मां भी काम कर रही थी लेकिन मैं नहीं चाहता था कि मां अब काम कर करें इसलिए मैंने भी अब नौकरी की तलाश शुरू कर दी आखिरकार मुझे नौकरी मिल ही गई। ऑफिस में मेरा पहला दिन था जब मैं अपने ऑफिस के लिए जा रहा था तो उस वक्त पायल मुझे मिली और पायल ने मुझे मेरे जीवन के लिए शुभकामनाएं दी। मैंने पायल को कहा यह सब तुम्हारी वजह से ही तो हो पाया है मैं ऑफिस से पहले दिन लौटा तो पायल ने मुझसे पूछा तुम्हारा ऑफिस कैसा रहा। मैंने उसे बताया सब कुछ अच्छा था धीरे-धीरे समय बीतता जा रहा था। समय बड़ी तेजी से बितता जा रहा था लेकिन पायल की इज्जत दिन-ब-दिन मेरी नजरो में बढ़ती जा रही थी हम दोनों चोरी छुपे एक दूसरे से मिलते। जब भी हम दोनों एक दूसरे से मिलते तो मुझे बड़ा अच्छा लगता एक दिन पायल और मैं साथ में बैठे हुए थे उस दिन मैंने पायल की जांघ पर हाथ रख दिया और पायल के होठों को मैंने चूम लिया। पायल भी अपने आपको बिल्कुल रोक ना सकी वह मुझे कहने लगी आकाश यह सब अभी से ठीक नहीं है मैंने पायल को समझाया पायल मेरी बात मान गई। जब हम दोनों एक साथ एक ही कमरे में थे तो मैंने पायल के होठों को बहुत देर तक चूमा उसके नरम और गुलाबी होठों को जिस प्रकार से मैं चूम रहा था उससे मेरे अंदर की गर्मी और भी ज्यादा बढ़ रही थी। पायल से मैं दिल से प्यार करता था इसलिए मैं चाहता था कि पायल के साथ अपने सेक्स संबंध को बड़े ही अच्छे से करूं। मैंने पायल से कपड़े उतारने को कहा तो पायल ने अपने कपड़े उतार दिए अब वह मेरे सामने नग्न खड़ी थी उसकी ब्रा और पैंटी को मैंने उतारना शुरू किया।

जब मैंने पायल की पैंटी और ब्रा को उतार दिया तो उसके गोरे स्तनों को देखकर मैंने उन्हें अपने हाथों से दबाना शुरू किया वह मचलने लगी थी। मैंने पायल को कहा तुम्हारे स्तन बड़े ही कमाल के हैं और यह कहते ही मैंने उसके स्तनों को अपने मुंह में ले लिया मैं उसके स्तनों का रसपान करता उसके स्तनों पर मैंने अपने प्यार की निशानी को भी छोड़ दिया। पायल के निप्पल को मैंने बहुत देर तक चूसा मैं धीरे-धीरे पायल की चूत की तरफ बढ़ा और पायल की चूत को जब मैंने अपनी जीभ से चाटना शुरू किया तो वह अपने आपको बिल्कुल भी रोक ना सकी उसकी चूत से बहुत ज्यादा पानी बाहर निकल रहा था। पायल ने अपने दोनों जांघों के बीच में मेरे मुंह को दबा लिया वह कहने लगी थोड़ा और अच्छे से चाटो? मैं पायल की चूत को चाट रहा था उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था।

वह मेरे 9 इंच मोटे लंड को बाहर लेना चाहती थी उसने अपने मुंह के अंदर लंड को उतार लिया था जिस प्रकार से वह मेरे लंड का रसपान कर रही थी उससे तो मुझे बड़ा आनंद आ रहा था बहुत देर तक उसने मेरे लंड का रसपान किया। जब मैंने अपने लंड को उसकी चूत के अंदर धीरे-धीरे प्रवेश करवाना शुरू किया तो पायल की सील पैक चूत से खून आना शुरू हो गया उसकी सील पैक चूत के बाहर की तरफ खून निकाल रहा था मैंने उसके दोनों पैरों को अपने कंधों पर रखा और उसे मैंने बड़ी तीव्र गति से धक्के देने शुरू किए। पायल के चेहरे पर खुशी थी और उसकी आंखों को मैं देख रहा था उसकी आंखो में मुझे प्यार नजर आ रहा था जो कि हमेशा से मेरे लिए था। मैंने पायल के होंठों को चूमा और उसे मैं तेजी से धक्के मारता रहा जिस गति से मैं उसे धक्के मार रहा था उससे उसकी चूत से पानी निकल रहा था और उसे बड़ा ही मजा आ रहा था। वह मुझे कहने लगी मुझसे ज्यादा देर तक रहा नहीं जाएगा। पायल की चूत और मेरे लंड की रगडन से जो गर्मी पैदा हो रही थी उस से हम दोनों ही नहीं बर्दाश्त कर पाए और मैने वीर्य को पायल की कोमल और मुलायम चूत में गिरा दिया। मैंने पायल के माथे को चूमा और कुछ देर हम दोनों एक साथ लेटे रहे पायल मेरी बाहों में आकर लेट चुकी थी उसने मुझे अपने दिल में पूरी तरीके से बसा लिया था।


error: